fbpx

बीस्ट रिव्यू: खुद सुपरस्टार थालापति विजय भी बिस्ट की डूबती हुई नाव को नहीं बचा पाए

Must read

राजन चौहान
राजन चौहानhttps://www.duniyakamood.com/
मेरा नाम राजन चौहान हैं। मैं एक कंटेंट राइटर/एडिटर दुनिया का मूड न्यूज़ पोर्टल के साथ काम कर रहा हूँ। मेरे अनुभव में कुछ समाचार चैनलों, वेब पोर्टलों, विज्ञापन एजेंसियों और अन्य के लिए लेखन शामिल है। मेरी एजुकेशन बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (सीएसई) हैं। कंटेंट राइटर के अलावा, मुझे फिल्म मेकिंग और फिक्शन लेखन में गहरी दिलचस्पी है।

फिल्म: बीस्ट (रॉ)

कलाकार: विजय, पूजा हेगड़े और अन्य
विज्ञापन

निर्देशक: नेल्सन दिलीपकुमार

रन-टाइम: 156 मिनट

Advertisement

रेटिंग: 2.5 /5

क्या है कहानी-

अपनी प्रेमिका प्रीती (पूजा हेगड़े) के साथ, रॉ एजेंट वीरा राघव (विजय) चेन्नई के एक मॉल में जाता है और पाता है कि मॉल पर आतंकवादियों ने कब्जा कर लिया है। मॉल के अंदर कोई संचार प्रणाली काम नहीं करती है। लेकिन सरकार बचाव अभियान शुरू करने के लिए वीरा राघव से संपर्क करने के लिए एक इजरायली तकनीक का इस्तेमाल करती है। वीरा राघव इसे कैसे संभालते हैं और पूरे मिशन से उनका क्या व्यक्तिगत संबंध है?

‘बीस्ट’ में करीब 40 मिनट तक यह देखना मुश्किल नहीं है कि फिल्म किस ओर जा रही है। यह नेल्सन की फिल्म है। फिल्म वीरा राघवन (विजय) कुछ हद तक अलग और भावहीन लग रहे है। उसके चारों ओर के पात्रो कमजोर है उन पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया गया है। यहां तक योगी बाबू और पूजा हेगड़े जैसे कलाकार का ठीक से इस्तेमाल नहीं किया गया है।

दरअसल जब मैंने ‘बीस्ट’ का ट्रेलर देखा, तब मुझे लगा कि निर्देशक नेल्सन ने सुपरहिट वेब ड्रामा ‘मनी हीस्ट’ से प्रेरित होकर ये कहानी लिखी है और मैने नेल्सन की पिछली फिल्में देखी। मुझे लगा कि नेल्सन मुझे निराश नहीं करेंगे। लेकिन उनके द्वारा लिखी इस कहानी में ना ही दम है और ना ही नेल्सन ये ठीक से एक्सीक्यूट नहीं कर पाये। उन्होंने कई फिल्मों से कहानी की पृष्ठभूमि ली है। ‘बीस्ट’ में उत्साहजनक क्षणों का अभाव है।

संगीत निर्देशक अनिरुद्ध जब भी विजय एक्शन स्टंट करते हैं तो बैकग्राउंड में “लीनर… मीनर… स्ट्रांगर” ट्रैक को इंटेंस कर देते हैं। अगर निर्देशक नेल्सन ने इस गाने को ध्यान से सुना होता और कहानी को मजबूत, रनटाइम लीनियर और विलेन का अर्थपूर्ण बनाया होता, तो प्रभाव बेहतर होता।

कहानी कमजोर है। नायक बहुत मजबूत है और वह बिना किसी बाधा के किसी भी मिशन को पूरा करता है, लेकिन खलनायक कमजोर है। सस्पेंस नाम का का तत्व फिल्म से गायब है।

मैंने नेल्सन की पिछली फिल्में देखी हैं, लेकिन जिस तरह से उन्होंने फिल्म को पहले अभिनय में सेट किया, वह मुझे पसंद आया। शुरुआती सेटअप काफी दिलचस्प है। वीटीवी गणेश द्वारा उत्पन्न हंसी से पता चलता है कि नेल्सन का कॉमेडी में एक अलग तरीका है। लेकिन उन्होंने विजय की स्टार पावर पर अधिक भरोसा किया है और वो अन्य पात्रो को बेहतर ढंग से लिखना भूल गए हैं, जो एकतरफा दिखता है।

अनिरुद्ध का बैकग्राउंड स्कोर और मनोज परमहंस की सिनेमैटोग्राफी और विजय एक साहसी और भाग्यशाली रॉ जासूस के रुप में एक बहुत बड़ा प्लस प्वाइंट है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article