fbpx

तेज गेंदबाज S. Sreesanth ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया सन्यास, क्रिकेट करियर हो गया था खत्म, जानें क्या रही वजह

Must read

राजन चौहान
राजन चौहानhttps://www.duniyakamood.com/
मेरा नाम राजन चौहान हैं। मैं एक कंटेंट राइटर/एडिटर दुनिया का मूड न्यूज़ पोर्टल के साथ काम कर रहा हूँ। मेरे अनुभव में कुछ समाचार चैनलों, वेब पोर्टलों, विज्ञापन एजेंसियों और अन्य के लिए लेखन शामिल है। मेरी एजुकेशन बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (सीएसई) हैं। कंटेंट राइटर के अलावा, मुझे फिल्म मेकिंग और फिक्शन लेखन में गहरी दिलचस्पी है।

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज S. Sreesanth ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से सन्यास ले लिया है। उनका क्रिकेट का करीयर तो इतना ज्यादा नहीं रहास लेकिन अपने छोटे से करियर में उन्होंने कमाल की पारीयां खेली हैं। भारत के लिए 27 टेस्ट खेल चुके श्रीसंत ने टेस्ट मैच और T20 में साल 2006 में डेब्यू किया था। वो भारत की दो बड़ी जीत का हिस्सा रह चुके हैं। उन्होंने भारतीय टीम के साथ साल 2007 में टी-20 विश्व कप और 2011 विश्व कप में टीम की जीत का हिस्सा रहे थे। श्रीसंत ने भारत के लिए 27 टेस्ट, 53 वनडे और 10 टी-20 मुकाबले खेले हैं। 27 टेस्ट मैच में उन्होंने कुल 87 विकेट लिए हैं, जबकि वनडे में 75 और टी-20 में 7 विकेट लिए हैं। क्रिकेट के अलावा वो टीवी रिएलिटी Bigg Boss का हिस्सा भी रहे हैं। साथ ही हिंदी, मलयालम, कन्नड़ भाषा में उन्होंने कुल 4 फिल्में भी की हैं। उन्होंने IPL में भी 44 मुकाबले खेले हैं, जिनमें से उन्होंने 40 विकेट लिए। वो लंबे समय से क्रिकेट से दूर हैं, हाल ही में IPL 2022 Mega Auction में अपना नाम दिया था, लेकिन उन्हें किसी टीम ने नहीं खरीदा।

भारत के तेज गेंदबाज S. Sreesanth कई बार विवादों में रहे हैं। जिसके चलते उनका पूरा क्रिकेट करियर खत्म हो गया। आपको बता दें कि साल 2008 के पहले इंडियन प्रीमियर लीग सीजन में मुंबई इंडियंस और किंग्स इलेवन पंजाब के बीच हुए मुकाबले के बाद उस वक्त रहे मुंबई के कप्तान हरभजन सिंह ने उन्हें चांटा मार दिया था। भज्जी ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि, उस वक्त वह श्रीसंत के रिएक्शन को देखकर खुद को काबू नहीं कर पाए थे और उन्होंने श्रीसंत थप्पड़ जड़ दिया था। इसके बाद हरभजन सिंह को पूरे सीजन के लिए बैन कर दिया गया था। इसके साथ ही उन्हें 5 वनडे मुकाबले के लिए भी बैन कर दिया गया था।

वहीं, IPL के 6वें सीजन में Sreesanth पर स्पॉट फिक्सिंग का आरोप लगा था। जिसके बाद उन्हें BCCI ने लाइफ बैन कर दिया था। इस विवाद में उनके साथ अजित चंडिला, अंकित चव्हाण का नाम भी शामिल था। लेकिन, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद बोर्ड ने श्रीसंत का बैन 7 साल तक कर दिया था। उनका यह बैन साल 2020 में खत्म हुआ था, लेकिन उसके बाद उन्हें टीम का हिस्सा बनने का मौका नहीं मिला।

Sreesanth ने एक भाविक पोस्ट के जरिए खेल को अलविदा कहा। उन्होंने लिखा, अगली पीढ़ी के क्रिकेटरों के लिए मैंने अपना क्रिकेट करियर समाप्त करने का फैसला किया है। यह निर्णय मेरे अकेले का है, और हालांकि मैं जानता हूं कि इससे मुझे खुशी नहीं मिलेगी, यह मेरे जीवन में इस समय लेने के लिए सही और सम्मानजनक कार्रवाई है। मैंने हर पल को संजोया है।

Advertisement

आगे उन्होंने लिखा, मेरे परिवार, मेरे साथियों और भारत के लोगों का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सम्मान की बात है। हर कोई जो खेल से प्यार करता है, सबके लिए ये सम्मान की बात है। बहुत दुख के साथ लेकिन अफसोस के बिना, मैं यह भारी मन से कहता हूं: मैं भारतीय घरेलू (प्रथम श्रेणी और सभी प्रारूपों) क्रिकेट से संन्यास ले रहा हूं।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article