fbpx

जानें गोल्ड फिश का साइंटिफिक नाम क्या है Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai?

Must read

आज इस आर्टिकल में हम गोल्ड फिश के Scientific नाम, गोल्ड फिश के आकार, goldfish का जीवन काल, गोल्डफिश की उत्पत्ति कैसे हुई और goldfish का खाना क्या होता हैं और वो सारी जानकारी देंगे जो गोल्डफिश के बारे जानना जरुरी हैं। अगर आप भी जानना चाहते हैं Goldfish Ka Scientific Naam kya hai तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

गोल्ड फिश (कैरासियस ऑराटस) साइप्रिनिडे परिवार में एक मीठे पानी की मछली है, गोल्ड फिश Scientific Name कैरासियस ऑराटस(Carassius Auratus और हिंदी नाम सुनहरी मछली हैं । इसका निवास स्थान मीठा पानी हैं। ये एक साइप्रिनिडे परिवार से हैं और जाति कैरासियस हैं । गोल्डफिश का वजन मैक्सिमम 4.5 kg का होता है और इसकी लम्बाई ज्यादा से ज्यादा 45 सेंटीमीटर तक सकती हैं । यह आमतौर पर इनडोर एक्वैरियम में पालतू जानवर के रूप में रखते है, और यह सबसे फेमस एक्वैरियम मछलियों में से एक है। जंगली में छोड़ी गई सुनहरी मछली उत्तरी अमेरिका के कुछ हिस्सों में एक आक्रामक कीट बन गई है। गोल्डफिश का भोजन शैवाल, लार्वा, कीट आदि।

पूर्वी एशिया के मूल निवासी, गोल्ड फिश कार्प परिवार का एक अपेक्षाकृत छोटा सदस्य है (जिसमें प्रशिया कार्प और क्रूसियन कार्प भी शामिल है)। यह पहली बार 1,000 साल पहले शाही चीन में रंग के लिए चुनिंदा रूप से पैदा हुआ था, और कई अलग नस्लों को विकसित किया गया है। गोल्ड फिश की नस्लें आकार, शरीर के आकार, पंखों व रंग में बहुत भिन्न होती है।

Goldfish मछली को गोल्डन क्रूसियन कार्प भी कहा जाता है। इसे हिंदी में “सुनहरी मछली” कहा जाता है। जो दुनिया की तीन प्रसिद्ध सजावटी मछलियों में से एक है। चीन में गोल्डफिश की उत्पति करीब 1700 वर्षों पूर्व हुई थी।

Advertisement

गोल्डफिश देखने में बहुत प्यारी लगती है इसलिए इसे बहुत से घरों में एक टैंक या जार में रखा जाता है। इसके अलावा गोल्डफिश रखना घरों के लिए शुभ माना जाता है।

Goldfish Ka Scientific Naam Kya Hai – गोल्ड फिश का साइंटिफिक नाम क्या है ?

Goldfish को सुनहरी मछली भी कहा जाता है। इसके अन्य नाम इस प्रकार है।

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम- कैरासियस औराटस
गोल्डफिश का लैटिन नाम कैरासियस गिबेलियो फॉर्मा ऑराटस
गोल्डफिश का हिंदी नाम- सुनहरी मछली
गोल्डफिश आयु- 5 से 6 साल
PH Range- 6.6 से 8.5
अन्य नाम- गोल्डन क्रूसियन कार्प
जाती- Carassius
निवाश स्थान- मीठा पानी में
वर्ग मछली
आकार 20 Cm. तक
भोजन शैवाल, कीट, लार्वा, आदि.
मूल श्रोत चीन
सम्भोग का समय अप्रैल-मई
तैराकी क्षेत्र पानी के सतह के नीचे
पानी का तापमान 10 – 20 डिग्री सेल्सिअस

Goldfish की कहाँ से उत्पत्ति कहाँ हुई-

माना जाता है कि सुनहरी मछली (गोल्डफिश) की उत्पत्ति चीन में हुई थी। चीन के जिंहुआन जब लुशान पर्वत पर पहुंचे तो झील लाल चमड़ी वाली मछलियों से भरी हुई थी। लाल चमड़ी वाला क्रूसियन कार्प सुनहरीमछली का सबसे पुराना पूर्वज था। नतीजतन, यह मान लेना उचित है कि सुनहरीमछली की खोज पहले की गई थी और फिर अच्छे कामों के बदले चीन के जिंग राजवंश द्वारा इसे छोड़ दिया गया था।

जिंग राजवंश के छोडने के बाद मिंग और किंग राजवंशों में सुनहरी मछली को पालतू बनाया गया था।

नए चीन की स्थापना के बाद से, चीनी वैज्ञानिकों ने सुनहरी मछली के संरक्षण और प्रजनन में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। सुनहरीमछली को 1502 में जापान में पेश किया गया था, और जापान ने द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ताइवान के माध्यम से कई प्रजातियों की शुरुआत की। Goldfish को 17वीं सदी के अंत में यूनाइटेड किंगडम में, 18वीं सदी में यूरोप में और 1874 में संयुक्त राज्य अमेरिका में पेश किया गया था, और वे जल्दी से पूरी दुनिया में फैल गईं।

गोल्डफिश से जुड़ी कुछ रोचक तथ्य इस प्रकार है-

दुनिया में हर साल करीब 480 मिलियन सुनहरी मछलीयों को बेचा जाता है। दुनिया में गोल्डफिश की करीब 300 से अधिक किसमें पायी जाती है।

इनके रंग, आंखें, पूंछ, पंख, शारीरिक संरचना इन्हें एक दुसरे से अलग बनाती है।
सुनहरी मछली दुनिया भर में पाले जाने वाले पालतू जानवरों में से एक है। जैसे कुत्ता, बिल्ली, और चिड़िया आदि।

गोल्डफिश लोगों के चेहरे की पहचान कर सकती है। इसके साथ ही यह विभिन्न प्रकार के रंग, आकार और ध्वनियों के बीच अंतर भी कर सकती है।

गोल्डफिश UV Rays को देख सकती है। यह बिना भोजन के 3 सप्ताह तक जीवित रह सकती है।

यह अपनी आंखें बंद नहीं कर सकती क्योंकि उसकी पलकें नहीं होती। इसलिए उन्हें अपने आंख खोलकर सोना पड़ता है।

गोल्ड फिश का निवास स्थान-

गोल्ड फिश जंगल के मीठे पानी के जलाशय में अधिकतर पाई जाती है। यह मछली हल्के कीचड़ वाले पानी में पनपती हैं।

तालाब में रहकर गोल्ड फिश छोटे – छोटे पौधे खाना पसंद करते हैं। गोल्ड फिश ठंडे वातावरण से 30 डिग्री सेंटीग्रेड तक जीवित रह सकती है।

फैंसी किस्म के गोल्ड फिश जैसे ओरांडस, लियोंहेड, रंचू को कमरे के तापमान से ज्यादा ठंडे पानी में नहीं रखना चाहिए। गोल्ड फिश रखने के लिए पानी का PH रेंज 6.5 से 8.5 तक उचित होता है।

गोल्ड फिश आकार-

जब छोटे इनडोर एक्वैरियम में रखा जाता है, तो सुनहरी मछली लगभग 1 इंच (2.5 सेमी) से 2 इंच (5.1 सेमी) लंबी रहती है। सुनहरीमछली बड़ी हो सकती है यदि उसे बड़े मछली टैंकों में ले जाया जाए, लेकिन वे आमतौर पर 6 इंच (15 सेमी) से अधिक नहीं बढ़ती हैं। बाहरी तालाबों और जंगली में, सुनहरीमछली लगभग 14 इंच (36 सेमी) तक बढ़ सकती है।

गोल्ड फिश जीवन काल-

एक पालतू गोल्ड फिश 43 साल तक जीवित रही थी। जो अभी तक सबसे अधिक है। लेकिन सामान्य तौर पर एक तालाब में रखी हुई मछली के लिए अधिकतम जीवनकाल 25 वर्ष होता है। अगर इसे घर पर रखा जाए तो इसका जीवन काल अधिक होने की संभावना है।

गोल्ड फिश का व्यवहार व खाना-

गोल्ड फिश आक्रामक नहीं होती है। अतः गोल्ड किससे संबंधित है किस्मों को संयोजन के साथ रखा जा सकता है। लेकिन अत्यधिक भिन्न मछलियों को एक साथ नहीं रखा जाना चाहिए। सुनहरी मछली क्या खाती है? जंगलो में सुनहरी मछली सर्वाहारी होती है। जो छोटे-छोटे पौधों, मच्छरों के लार्वा और छोटे-मोटे कीड़े – मकोड़ों को खाती है। मछली घरों में इन्हें बीज का मिक्सचर जैसे खाना दिए जाते हैं।

पाले जाने वाले Goldfish की किस्मे-

पालतू गोल्डफिश के किस्में इस प्रकार है-

कॉमन गोल्डफिश (Common Goldfish)

सेलेस्टियल (Celestial)
कॉमेट (Comet)
ब्लैक टेलीस्कोप (Black Telescope)
बबल आई (Bubble Eye)
फंटेल (Fantail)
पर्ल स्केल (Pearlscale)
लायनहेड (Lionhead)
ओरांदा (Oranda)

हम आपको goldfish मछली के बारे सभी जानकारी बता चुके हैं जैसे गोल्डफिश का साइंटिफिक (scientific) क्या हैं , गोल्डफिश की उत्पत्ति कब हुई, गोल्डफिश का वजन और आकार क्या हैं इत्यादि। हम आशा करते हैं आपको हमारा आर्टिकल goldfish ka scientific naam kya hai पसंद आया होगा।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article