fbpx

85 मिनट के लिए अमेरिका की राष्ट्रपति बनीं कमला हैरिस, इस वजह से राष्ट्रपति ने सोपी थी अपनी पावर!

Must read

नई दिल्ली: भारतीय मूल की कमला हैरिस ने अमेरिका की उप राष्ट्रपति बनकर इतिहास रचा था। अब एक बार फिर कमला हैरिस ने ऐसा कुछ किया, जिसको लेकर वो काफी ज्यादा सुर्खियों में आ गई। दरअसल, इस बार कमला हैरिस अमेरिका की राष्ट्रपति बन गई और वो ऐसा करने वाली पहली महिला भी बनीं।

दरअसल, कमला हैरिस सिर्फ 85 मिनटों के लिए अमेरिका की राष्ट्रपति बनाई गई। इतनी देर के लिए जो बाइडेन की सारी शक्तियां उन्हें ट्रांसफर की गई। पावर ट्रांसफर करने की वजह दरअसल, कमला हैरिस को कुछ मिनटों को राष्ट्रपति की पावर कुछ देर के लिए इसलिए सौंपी गई, क्योंकि जो बाइडेन शुक्रवार की देर रात को रूटीन ‘कोलोनस्कॉपी’ चेकअप (आंतों की जांच) कराने के लिए वाल्टर रीड नेशनल मिलिट्री मेडिकल सेंटर गए थे। इस दौरान ‘एनिसथीसिया’ (Anaesthesia) के प्रभाव में थे। इस वजह से ही कुछ समय के लिए उनकी शक्तियां हैरिस को ट्रांसफर की गई।

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन पास्की ने इसके बारे में जानकारी दी। इस वजह से शुक्रवार को कमला हैरिस ने कुछ देर के लिए राष्ट्रपति का पद संभाला और इसके साथ ही वो ऐसा करने वाली पहली महिला भी बन गई। कमला हैरिस को जो बाइडेन ने अपनी शक्तियां ऐसे समय में ट्रांसफर की जब दोनों के बीच कुछ तनाव की खबरें आने लगी थीं।

जनवरी में राष्ट्रपति का पद संभालने वाले जो बाइडेन अमेरिका के इतिहास के सबसे उम्रदराज व्यक्ति हैं। इससे एक दिन पहले शुक्रवार को वो वॉशिंगटन के बाहर वाल्टर रीड मेडिकल सेंटर गए। वैसे हर साल ही जो बाइडेन अपना चेकअप और इलाज कराते हैं, लेकिन राष्ट्रपति बनने के बाद उन्होंने पहली बार ऐसा कराया। कॉलोनोस्कोपी के दौरान बाइडेन को बेहोश किया गया था, जिस वजह से इस दौरान उनकी प्रेसिडेंशियल पावर हैरिस के पास रही।

Advertisement

आपको बता दें, अमेरिका में ऐसा पहली बार नहीं हुआ, जब राष्ट्रपति की पावर यूं ट्रांसफर की गई हो। बल्कि वहां ये एक रूटीन प्रोसेस की तरह है। जब अमेरिका का राष्ट्रपति किसी ऐसे मेडिकल प्रॉसिजर से गुजरता है जहां पर उनको Anaesthesia दिया जाता है, तो ऐसे में राष्ट्रपति की शक्तियां उपराष्ट्रपति को ट्रांसफर कर दी जाती है। जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने भी ऐसा ही किया था। उन्होंने अपनी शक्तियां तत्कालीन उपराष्ट्रपति डिक चेनी को कई बार ट्रांसफर की थीं। अमेरिका के संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति कुछ समय के लिए अपना कार्यवाहक प्रेसिडेंट नियुक्त कर सकता है। ट्रंप भी इस मेडिकल प्रोसेस से गुजरे थे। पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कॉलोनोस्कोपी के लिए गए थे। लेकिन इस दौरान उन्होंने अपनी पावर ट्रांसफर करने की जगह इसको सीक्रेट ही रखा था।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article