fbpx

घर में हाथी, कछुए की मूर्तियां रखने से दूर होती है कंगाली, पढ़ें पूरी जानकारी!

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

नई दिल्ली: अपने घर को अच्छा और सुंदर दिखाने के लिए अक्सर सभी लोग प्रयास करते हैं। इसके लिए हम घर में तरह तरह के सजावट की वस्तुएं इस्तेमाल करते हैं। किसी जाने-माने इंटीरियर डेकोरेटर को बुलवा कर घर की साज-सज्जा में पैसे लगाते हैं। बहुत से घरों में हम लोग एथनिक, प्राचीन एवं खूबसूरत मूर्तियां एवं शो पीस जैसी चीज रखना पसंद करते हैं, ताकि उनका घर खूबसूरत नजर आए। लेकिन वास्तु के हिसाब से इन मूर्तियों को घर में सजाने से पहले कई बातें ऐसी है जिनका ध्यान रखना जरूरी है।

दरअसल वास्तु के अनुसार घरों में मूर्तियों को रखना शुभ तो माना जाता है लेकिन कुछ ऐसी मूर्तियां हैं जिन्हें रखने से बचना चाहिए। वास्तु के मुताबिक कुछ मूर्तियां ऐसी भी होती हैं जो घर के अंदर नकारात्मक माहौल बना सकती हैं। वास्तु नियमों एवं वास्तु दोषों का सीधा-सीधा असर हमारे जीवन एवं सुख समृद्धि पर पड़ता है, आइए जानते हैं वास्तु या फेंग शुई नियम के अनुसार किस तरह की मूर्तियां रखनी चाहिए।

हाथी की मूर्ति

वास्तु नियमों के अनुसार हाथी को समृद्धि एवं ऐश्वर्य का प्रतीक माना जाता है, जिसको अन्य शब्द में हम एरावत कहते हैं। ज्योतिष एवं हिन्दू धार्मिक ग्रंथों के अनुसार घर में हाथी की मूर्ति रखना शुभ होता है। वास्तु के मुताबिक हाथी की मूर्ति पीतल या चांदी की भी खरीद सकते हैं, क्योंकि चांदी को सबसे ज्यादा समृद्धि वाला धातु माना जाता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सोने वाले कमरे या आपके बेडरूम में हाथी की कोई प्रतिमा रखी जाए तो राहु दोषों से मुक्ति मिल जाती है।

Advertisement

कछुए की मूर्ति

फेंगशुई वास्तु नियम, वैदिक वास्तु नियमों की तरह ही फलदाई एवं लाभकारी माना जाता है। फेंगशुई वास्तु नियम के अनुसार घर में कछुए की प्रतिमा रखी जाए तो धन लाभ मिलता है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article