Nikhat Zareen - नाखूनों पर बना रखा था गोल्ड मेडल, ताकि हर पल याद रहे GOLD जीतने का सपना - Duniyakamood

Nikhat Zareen – नाखूनों पर बना रखा था गोल्ड मेडल, ताकि हर पल याद रहे GOLD जीतने का सपना

Must read

राजन चौहान
राजन चौहानhttps://www.duniyakamood.com/
मेरा नाम राजन चौहान हैं। मैं एक कंटेंट राइटर/एडिटर दुनिया का मूड न्यूज़ पोर्टल के साथ काम कर रहा हूँ। मेरे अनुभव में कुछ समाचार चैनलों, वेब पोर्टलों, विज्ञापन एजेंसियों और अन्य के लिए लेखन शामिल है। मेरी एजुकेशन बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (सीएसई) हैं। कंटेंट राइटर के अलावा, मुझे फिल्म मेकिंग और फिक्शन लेखन में गहरी दिलचस्पी है।

निखत ज़रीन (जन्म 14 जून 1996) एक भारतीय मुक्केबाज हैं। उन्होंने 2011 में अंताल्या में आयोजित एआईबीए महिला युवा और जूनियर विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता है। जरीन ने 2022 आईबीए महिला विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता और आईबीए विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पांचवीं भारतीय महिला बनीं है। ज़रीन जून 2021 से बैंक ऑफ़ इंडिया में सामान्य बैंकिंग अधिकारी के रूप में काम कर कर रही हैं। उन्होंने बर्मिंघम में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में स्वर्ण पदक जीता है।

निखत ज़रीन ने रविवार को राष्ट्रमंडल खेल 2022 में महिलाओं के 50 किग्रा (लाइट फ्लाईवेट) वर्ग में स्वर्ण पदक जीता है, बर्मिंघम में ऐसा करने वाली वह तीसरी भारतीय बन गईं है। ज़रीन ने उत्तरी आयरलैंड के कार्ली मैक नॉल को हराया।

माँ से गोल्ड लाने का किया था वादा-

3 अगस्त को अपनी मां के जन्मदिन पर, ज़रीन ने ट्वीट किया था, “मेरी सुपरवुमन को जन्मदिन की शुभकामनाएं, आपकी मुस्कान मुझे मजबूत रखती है और आपकी आत्मा मुझे ऊपर उठाती है। काश मैं इस खास दिन पर आपके साथ होती, लेकिन मैं वादा करती हूं कि जल्द ही आपका तोहफा लेकर आउंगी आते समय। बहुत प्यार करती हूँ अम्मी। ️” ट्विटर पर लोग जीत के साथ-साथ उनके वादे को पूरा करने के लिए भी बधाई दे रहे हैं।

पर्सनल लाइफ-

निखत ज़रीन का जन्म 14 जून 1996 को आंध्र प्रदेश (अब तेलंगाना) के निज़ामाबाद शहर में मोहम्मद जमील अहमद और परवीन सुल्ताना के घर हुआ था। उन्होंने अपनी प्राथमिक शिक्षा निजामाबाद के निर्मला हृदय गर्ल्स हाई स्कूल से पूरी की है। वह हैदराबाद, तेलंगाना में एवी कॉलेज में बीए कर रही है।

2020 में, ज़रीन को खेल मंत्री वी. श्रीनिवास गौड़ के साथ-साथ तेलंगाना राज्य के खेल प्राधिकरण (SATS) द्वारा इलेक्ट्रिक स्कूटर और दस हज़ार रुपये का नकद पुरस्कार प्रदान किया गया था। जरीन को बैंक ऑफ इंडिया, एसी गार्ड्स, हैदराबाद के अंचल कार्यालय में स्टाफ ऑफिसर के रूप में नियुक्त हैं।

करियर-

ज़रीन को उनके पिता मोहम्मद जमील अहमद ने बॉक्सिंग से परिचित कराया और उन्होंने एक साल तक उनके अधीन प्रशिक्षण लिया है। निखत को 2009 में द्रोणाचार्य पुरस्कार विजेता, IV राव के तहत प्रशिक्षित करने के लिए विशाखापत्तनम में भारतीय खेल प्राधिकरण में शामिल किया गया था। एक साल बाद, उन्हें 2010 में इरोड नेशनल्स में ‘गोल्डन बेस्ट बॉक्सर’ घोषित किया गया था।

ये भी पढ़े Commonwealth Games 2022: दीपक पुनिया ने दिखाया दम, बजरंग पुनिया और साक्षी मलिक के बाद भारत की झोली में तीसरा गोल्ड

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article