21.1 C
Delhi
गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022

Neeri Syrup Uses In Hindi, जाने इसका उपयोग, लाभ, साइड इफेक्ट्स और कीमत!

Neeri syrup uses in hindi – Neeri Syrup जो हमें बेहद आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर से मिल जाता है और इसका इस्तेमाल बच्चों से लेकर बुजुर्ग व्यक्ति तक सभी कर सकते हैं। यह एक आयुर्वेदिक औषधि है जिसका प्रयोग कई प्रकार के रोगों में किया जाता है यदि आप भी Neeri Syrup Uses In Hindi के बारे में जानकारी चाहिए तो यह आर्टिकल आपके लिए ही है।

आपको बता दें Aimil द्वारा तैयार की गयी ये Neeri Syrup आपके घर के किसी भी नजदीकी मेडिकल स्टोर/फार्मेसी पर आसानी से उपलब्ध हो जाती है इस सिरप को खरीदने के लिए आपको डॉक्टर द्वारा लिखित पर्चे के भी जरुरत नही पड़ती है।

आपने बहुत से लोगों को नीरी सिरप का उपयोग पथरी के लिए करते हुए देखा होगा। इसका निर्माण विभिन्न प्रकार की जड़ीबूटियों से मिलकर बनाया जाता है। यह एक वैज्ञानिक अवधारणा होती है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की बीमारिया के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है। आर्टिकल में हम जानेंगे कि Neeri Syrup का उपयोग कौन-कौन सी बीमारी में किया जाता है, इसका प्राइस कितना होता है, कितनी मात्रा में इस आयुर्वेदिक दवा का उपयोग करना चाहिए, और साथ ही क्या इस सिरप के कोई साइड इफेक्ट हैं। तो चलिए फिर भी हम लोग Aimil Neeri Syrup Uses, neeri syrup 100ml price, neeri syrup 200ml price, Side Effects, Dosage, आदि के बारे में बात करते हैं।

नीरी सिरप क्या है

आयुर्वेदिक पद्धति से निर्माण हुई किडनी स्टोन की दवा को नीरी सिरप कहा जाता है। यह सिरप ना ही केवल पथरी मिटाती है बल्कि शारीरिक दर्द, कमजोरी, मूत्र लक्षी समस्या, विषाक्त पदार्थ, पाचन रोग, गैस, दस्त और मूत्र मार्ग संक्रमण जैसी परेशानियों को भी दूर करती है। सिरप की खासियत यह है की दूसरे सिरप के जैसे यह आपको लत नहीं लगाती। नीरी को खास आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों द्वारा बनाया जाता है। इसलिए लोग इसे पथरी की आयुर्वेदिक दवा के रूप में भी जानते है। नीरी सिरप लिक्विड फॉर्म में आती है जिसे पी कर अनेक लाभ पाए जा सकते है।

किसी भी प्रकार के नुकसान रहित ये दवाई एंटीमाइक्रोबायल और एंटीबैक्टेरियल गुणों से युक्त है। शरीर में रहे हानिकारक तत्व सिरप पीने से बहार निकल जाते है। वैसे तो नीरी सिरप लेना पूर्णतः सुरक्षित है मगर फिर भी डॉक्टरी सलाह अनुसार ही इसे उपयोग में लेना चाहिए

Neeri Syrup में जड़ी-बूटियों के फायदे –

Neeri syrup में कई तरह की जड़ी-बूटियों का प्रयोग किया जाता है, जिसके कई सारे काम और फायदे होतें हैं.जैसे-

  • गोखरू

गोखरू का मुख्य काम होता है यौन इच्छा को बढ़ाना और यह शरीर से अतिरिक्त पानी को निकालने के लिए बार-बार मूत्र का कारण बनने वाले घटक होते हैं जिससे मूत्र की समस्या में राहत मिलता है।

  • दारुहल्दी

दीरूहल्दी काम होता है चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करना और लिवर को संक्रमण से बचाने के साथ उसे बेहतर तरीके से कार्य करने में मदद करती हैं।

  • सहदेवी

यह ऐसा तत्व है जो पेशाब आने की प्रक्रिया में सुधार करती है और ये एजेंट सूक्ष्मजीवों के विकास और कार्यों के खिलाफ सहायक होते हैं।

  • पुनर्नवा

पुनर्नवा वे घटक है जिनका इस्तेमाल फ्री रेडिकल्स की सक्रियता को कम करने और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को रोकने के लिए किया जाता है।

  • वरुण

वे दवाएं या एजेंट जो अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए इस्तेमाल की जाती हैं।

  • मकोय (काकमाची)

ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं। ये एजेंट मुक्त कणों को साफ करके ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते हैं।

  • पाशनभेदा

वो दवा या एजेंट जो बैक्टीरिया को नष्ट या उसे बढ़ने से रोकती है।

नीरी सिरप का उपयोग कब किया जाता है neeri syrup uses in hindi

Neeri syrup का उपयोग खासकर कर किडनी से जुड़ी समस्याओं में किया जाता है, इसके अलावा और भी कई समस्याओं में इसका उपयोग किया जाता है। जो इस प्रकार है –

  • मूत्र पथ के संक्रमण
  • गैस्ट्रिक जलन
  • कम मूत्र उत्पादन के लिए
  • दर्द
  • जीवाणु संक्रमण
  • लीवर सिरोसिस
  • पेट की समस्या
  • अत्यधिक प्यास
  • भूख में कमी
  • पाचन रोग
  • मधुमेह
  • मिरगी
  • जोड़ो में दर्द
  • गर्भाशय रक्तस्राव विकार में
  • पैशाब से जुड़ी अन्य समस्याओं

Neeri Syrup कैसे काम करती है ?

नीरी सिर का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह अनुसार किया जाना चाहिए। यह प्रोस्टेट, मूत्र कैलकुली और मूत्र पथ की बीमारी जैसी कई अन्य समस्याओं का निदान करने हेतु काम में लाया जाता है।

इसमें ऐसे एंटीबैक्टीरियल और एंटी माइक्रोबिक्ट्रीयल गुण मौजूद होते हैं। जो मूत्राशय से जुड़े संक्रमण को कारगर रूप से दूर करने में सहायता करते हैं। यह मूत्राशय की ताकत को बढ़ाकर प्रोस्टेटिक की जटिलता को कम करता है। नीरी सिरप प्रयोग गुर्दे के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए किया जाता है।

Aimil Neeri Syrup की खुराक (Dosage) ya नीरी सिरप कैसे पियें

हमेशा याद रखें कि हर रोगी और उनका मामला अलग हो सकता है। इसलिए रोग, दवाई देने के तरीके, रोगी की आयु, रोगी का चिकित्सा इतिहास और अन्य कारकों के आधार पर ही Aimil Neeri Syrup की खुराक लेनी चाहिए। अधिकतर मामलों में दी जाने वाली Aimil Neeri Syrup की खुराक कुछ इस प्रकार हैं-

  • बच्चे(2 से 12 वर्ष)

मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें।

खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं।

अधिकतम मात्रा: 1 छोटी चम्मच।

लेने का तरीका: गुनगुना पानी।

दवा का प्रकार: सिरप।

दवा लेने का माध्यम: मुँह।

आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में दो बार

दवा लेने की अवधि: उपचार लम्बे समय तक जारी रहेगा।

  • व्यस्क (Adult)

मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें।

खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं।

अधिकतम मात्रा: 2 छोटी चम्मच।

लेने का तरीका: गुनगुना पानी।

दवा का प्रकार: सिरप।

दवा लेने का माध्यम: मुँह।

आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में दो बार

दवा लेने की अवधि: उपचार लम्बे समय तक जारी रहेगा।

  • बुजुर्ग (senior citizen)

मात्रा: निर्धारित खुराक का उपयोग करें।

खाने के बाद या पहले: कभी भी दवा ले सकते हैं।

अधिकतम मात्रा: 2 छोटी चम्मच।

लेने का तरीका: गुनगुना पानी।

दवा का प्रकार: सिरप।

दवा लेने का माध्यम: मुँह।

आवृत्ति (दवा कितनी बार लेनी है): दिन में दो बार।

दवा लेने की अवधि: उपचार लम्बे समय तक जारी रहेगा।

नीरी टेबलेट के फायदे | Neeri Syrup Benefits

  • Neeri syrup पेशाब में जलन की समस्या को दूर करता है।
  • मूत्र मार्ग संक्रमण को दूर करता है।
  • किडनी की पथरी को धीरे-धीरे कम करता है।
  • UTI infection की समस्या को दूर करता है।
  • मूत्र से जुडी लगभग सभी समस्याओं के ईलाज में इसका प्रयोग किया जाता है।
  • प्रोस्टेट के खतरे को रोकता है।
  • पेशाब की अनियमित्तता को दूर करता है।
  • पैशाब के रास्ते में किसी भी तरह के दर्द को रोकता है।
  • नेफ्रो-सुरक्षात्मक और इम्यूनो-मॉड्यूलेटर के रूप में काम करता है।
  • इसके अलावा यह Acidity के कारण होने वाली जलन को दूर करता है।
  • जेनिटोरिनरी ट्रैक्ट विकार को दूर करने में सहायता करता है।
  • इम्यून सिस्टम को बढ़ावा देता है।
  • बैक्टीरियल इंफेक्शन को दूर करता है।
  • पाचन को बढ़ावा देता है और इन्फ्लेमेशन को कम करता है।

Neeri Syrup के साइड इफ़ेक्ट Side effects

वैसे तो यह एक आयुर्वेदिक दवा है जिसके कुछ साइड इफैक्ट निम्न है –

नीरी सिरप का अधिक इस्तेमाल से हाइपरटेंशन जैसी समस्या को जन्म दे सकता है, बिना आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लिए इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यदि इसे लेने से किसी प्रकार की एलर्जी हो तो अपने चिकित्सक को बताएं। इसके अधिक इस्तेमाल से रक्तचाप की समस्या का कारण बन सकता है।

Neeri syrup से जुडी सावधानियां

यदि हम किसी दवा का सेवन करते हैं तो हमें उसकी पुरी जानकारी होनी बेहद जरूरी होती है। जिस प्रकार कोई दवा हमारे स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाती है वहीं उनके सही समय पर इस्तेमाल, गलत डोज आपको नुक्सान भी पहुंचा सकती है। Neeri syrup का इस्तेमाल कई समस्याओं में किया जाता है लेकिन इससे जुड़ी कुछ सावधानियों से भी हमें रुबरु होने की जरूरत है।

  • अक्सर बच्चों को नीरी सिरप का सेवन करने से मना किया जाता है या फिर इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • स्तनपान करवाने वाली महिला को डॉक्टर की सलाह के बिना इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपका हाल ही में कोई सर्जरी हुई है तो इसका सेवन न करें।
  • यदि आप डॉक्टर द्वारा बताये गए खुराक से अधिक खुराक लेते हैं तो यह नुकसानदेय हो सकता है।
  • इसके इस्तेमाल के दौरान शराब नहीं पीनी चाहिए।
  • ब्लड-प्रेशर की समस्या है तो डॉक्टर से राय लेने के बाद ही इसका सेवन करें।
  • स्तनपान कराने वाली माताओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिए।
  • यदि आपको रक्तस्राव की समस्या है तो डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही इसका सेवन करें।

नीरी क्या है what is Neeri tablet ?

Neeri tablet एक आयुर्वेदिक औषधिय दवा है, जो खास तरह की जड़ी-बूटियों को मिलाकर बनाया जाता है। यह Aimil फार्मास्यूटिकल कम्पनी द्वारा बनाया जाती है। नीरी टेबलेट का उपयोग किडनी से जुड़ी समस्या जैसे किडनी संक्रमण, पथरी, पैशाब में जलन जैसी अन्य कई समस्याओं में भी किया जाता है

इसलिए इसे Neeri KFT syrup भी कहा जाता है। चूंकि यह एक आयुर्वेदिक दवा है इसलिए इसका कोई खास साइड इफैक्ट नहीं होता है। फिर भी हम आपकों यही सलाह देते हैं कि इस दवा का इस्तेमाल बिना डॉक्टर की सलाह के ना करें।

Aimil Neeri tablet के मुख्य रूप से होतें हैं गोखरू, दारुहल्दी, सहदेवी, पुनर्नवा, वरुण, मकोई, पाशनभेदा जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Aimil Neeri tablet की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है।

Neeri tablet का इस्तेमाल

Neeri tablet का उपयोग खासकर कर किडनी से जुड़ी समस्याओं में किया जाता है। इसके अलावा और भी कई समस्याओं में इसका उपयोग किया जाता है, जो इस प्रकार है –

  • मूत्र पथ के संक्रमण
  • गैस्ट्रिक जलन
  • कम मूत्र उत्पादन के लिए
  • दर्द
  • जीवाणु संक्रमण
  • लीवर सिरोसिस
  • पेट की समस्या
  • अत्यधिक प्यास
  • भूख में कमी
  • पाचन रोग
  • मधुमेह
  • मिरगी
  • जोड़ो में दर्द
  • गर्भाशय रक्तस्राव विकार में
  • किडनी की पथरी
  • रिनल ग्लाइकोसुरिया
  • पैशाब से जुड़ी अन्य समस्याओं

Neeri Syrup KFT क्या है?

नीरी KFT सिरप हर्बल आयुर्वेदिक प्रक्रिया से बनाई गई हैं, जो की आधिकतर किडनी की समस्याओं को जड़ से खत्म करती हैं।

Neeri kft syrup uses in hindi

इस सिरप की बोटल पर यूरिनरी ट्रेक्ट (किडनी) का चित्र अंकित होता हैं, जिसे देख कर आसनी से पता लग जाता हैं, कि यह किस उत्पाद के लिए बना हैं। Neeri KFT Syrup एक शुगर फ्री उत्पाद है।

यह सिरप भारत में Aimil Pharmaceuticals Ltd द्वारा निर्मित हैं। पेशाब से संबधित कोई बीमारी या यूरिनरी ट्रेक्ट मे कोई संक्रमण हो, इस अवस्था मे इस आयुर्वेदिक सिरप का सुझाव दिया जाता है।

Neeri Syrup की कीमत neeri syrup uses in hindi price

आर्युवेदिक औषधियां नीरी सिरप में मौजूद है। जो कही स्वास्थ्य लक्षी समस्याए हल करने में उपचारक है। साथ ही सिरप आपको बहुत कम कीमत पर भी उपलब्ध होता है जो एक पूरी वैल्यू फॉर मनी प्रोडक्ट है। अब जानते है नीरी सिरप की कीमत-

Aimil Neeri Syrup for Kidney Health 200ml – ₹220 (200 ml)

neeri syrup 100ml price – ₹144.96

आसपास के किसी भी प्रमुख मेडिकल स्टोर या आयुर्वेदिक स्टोर से इस दवाई को ख़रीदा जा सकता है। इसके अलावा ऑनलाइन भी आप कुछ ऑफर्स का लाभ ले कर इसे खरीद सकते है।

ये भी पढ़े – Polybion Syrup Uses In Hindi सेहत से जुड़ी इन अलग-अलग समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए Polybion Syrup का करें इस्तेमाल, जानें इसके फायदे

ये भी पढ़े – Maxirich Capsule uses in hindi | ऐसे काम करता है मैक्सीरिच कैप्सूल, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Zerodol SP uses in hindi | आखिर किस काम आती है जीरोडोल एसपी, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Nestor tablet uses in hindi यहां जाने आखिर किस बीमारी में उपयोग होती है नेस्टर टैबलेट ?

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles