fbpx

O2 Review: नयनतारा का शानदार रहा प्रदर्शन, नयनतारा-ऋत्विक की केमिस्ट्री है हाइलाइट

Must read

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

फिल्म O2
कास्ट- नयनतारा, ऋत्विक, ऋषिकांत, शा रा, बरथ नीलकांतन

निर्देशक- जीएस विकनेश
भाषा: तामिल
ओटीटी प्लेटफॉर्म Disney+ Hotstar

फिल्म चाहे कोई भी रही हो लेकिन लेडी सुपरस्टार नयनतारा ने हमें कभी भी निराश नहीं किया है। इस बार भी वो हमारी उम्मिदों पर खरी उतरी हैं। आज नयनतारा कि फिल्म O2 रिलीज हुई है, जिसे डायरेक्ट किया है- जीएस विकनेश ने, इसमें कोई शक नहीं है कि जीएस विकनेश ने कमाल की फिल्म बनायी है। इस सर्वाइवल ड्रामा में जहां जीएस विकनेश का कमाल का निर्देशन देखने को मिला है वहीं नयनतारा ने अपनी परफारमेंश से हर सीन में जान फूंक दी है।

क्या है कहानी-

O2 फिल्म का प्लॉट दिलचस्प है। कोयंबटूर से कोचीन जाने वाले यात्रियों से भरी बस भूस्खलन के कारण बनी एक खाई में फेंस जाती है। बस मलबे के नीचे दब जाती है। पार्वती (नयनतारा) और वीरा (ऋत्विक) बाद के ऑपरेशन के लिए यात्रा कर रहे हैं वह ऑक्सीजन सिलेंडर के बिना सांस नहीं ले सकता है। रफीक (ऋषिकांत) अपनी प्रेमिका मित्रा के साथ भागने के लिए यात्रा कर रहा है, जो अपने पिता के साथ उसी बस में है। पुलिस इंस्पेक्टर करुणई राजन (बरथ नीलकंठन) कोकीन के एक बैग के साथ यात्रा कर रहा है जिसे वह बेचना चाहता है। एक पूर्व विधायक और हाल ही में रिहा हुआ एक कैदी भी बस में है। सभी एक खाई में कीचड़ और चट्टानों के टीले के नीचे फंस जाता है। अब इस सिचुएशन में क्या वो जीवित रहेंगे?

Advertisement

महिलाएं तमिल सिनेमा में वापसी क्यों नहीं करतीं। वे लड़ाकू नहीं हो सकती हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनके पास कोई ताकत नहीं है। हालांकि फिल्म में ज्यादातर क्षणों में, हम देखते हैं कि पार्वती को वापस लड़ने के लिए अपने संसाधनों का सबसे अच्छा उपयोग करते हुए दिखाया गया है।

O2 एक अच्छी फिल्म है। O2 में अभी भी एक आकर्षक थ्रिलर के लिए सभी तत्व हैं। और इस तरह की फिल्म बनाना कोई खेल नहीं है। इस तरह कि फिल्म को शूट करना भी एक बड़ी चुनौती है।

कुल मिलाकर, कलाकार ने अच्छा काम किया हैं, इनके अभिनय इतना अच्छआ है कि आप सांस लेने में असमर्थता के बारे में आश्वस्त हो जाते हैं क्योंकि बस में ऑक्सीजन का स्तर नीचे चला जाता है और कैसे जीवित रहने की उनकी हताशा उनकी मानवता को मिटा देती है। उनके प्रयासों को सिनेमैटोग्राफर तमीज़ अज़गन ने बखूबी कैप्चर किया है। बस के भीतर मानव स्वभाव में परिवर्तन दिखाने के लिए रंगों का उपयोग उस तनाव को बढ़ाता है जिसे निर्देशक बनाने का प्रयास किया है। विशाल चंद्रशेखर का संगीत और सेल्वा आरके द्वारा संपादन भी O2 में कुछ गहराई जोड़ता है।

पटकथा को काफी हद तक अच्छी तरह से सोचा गया है, यहां तक ​​​​कि फिल्म की शुरुआत में पक्षी की उपस्थिति पर भी दोबारा गौर किया गया है। O2 निश्चित रूप से देखने लायक है।

ये भी पढ़े O2 ट्रेलर- 2021 की फ्रेंच साइंस-फाई थ्रिलर ऑक्सीजन से इंस्पायर लग रहा है नयनतारा की फिल्म O2 का ट्रेलर

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article