fbpx

पौष अमावस्या के दिन इन उपायों से प्रसन्न होते है पितर देव, जानिए कब है तिथी और शुभ मुहूर्त ?

Must read

हिंदू धर्म में सदियों से अमावस्या और पूर्णिमा का दिन सबसे विशेष माना गया है क्योंकि इन दिनों में स्नान, दान, पिंडदान श्राद्ध कर्म आदि का बहुत महत्व होता है और इस बार पोष पौष माह की अमावस्या नए साल 2022 के दूसरे दिन यानी 2 जनवरी को है।

ऐसा माना जाता है कि अगर अमावस्या के दिन पितरों का तर्पण किया जाए और उनके लिए निमित्त श्राद्ध कर्म किया जाए। तो हमारे पितर देव प्रसन्न हो जाते हैं और अपने वंशजों को आशीर्वाद देते हैं और अगर इस दिन कुछ विशेष उपाय किए जाए तो इससे घर में सुख-समृद्धि का वास होता है।

पौष अमावस्या को करें यह उपाय ?

कालसर्प दोष का उपाय

ऐसा कहा जाता है कि अगर अमावस्या को कालसर्प दोष का उपाय किया जाए तो इससे बेहद शुभ फल की प्राप्ति होती है। कालसर्प दोष के उपाय के लिए चांदी के नाग-नागिन को बनवाएं और उनकी पूजा करें। इसके बाद चांदी नाग-नागिन को ले जाकर किसी भी नदी में प्रवाहित कर दें।

जरूरतमंद लोगों की करें मदद

अगर अमावस्या के दिन गरीब और असहाय लोगों की मदद या फिर उन्हें भोजन करवाया जाए तो इससे पितर देव प्रसन्न हो जाते है। तो पौष अमावस्या के दिन जरूरतमंदों को भोजन अवश्य कराएं।

Advertisement

ब्राह्मणों को भोजन

पौष अमावस्या के दिन पूजा करें और इसके बाद ब्राह्मणों को भोजन कराएं और उन्हें दान-दक्षिणा देकर विदा करें। ऐसा कहा जाता है कि अगर अमावस्या के दिन ब्राह्मणों को भोजन कराया जाता है। तो वह भोजन सीधा हमारे पितरों को मिलता। जिससे प्रसन्न होकर पितर अपने वंशजों को आशीर्वाद देते है।

स्नान का विशेष महत्व

पौष अमावस्या की सुबह उठकर नदी या सरोवर में स्नान करना चाहिए। अगर संभव ना हो पाए तो गंगाजल युक्त पानी से घर पर भी स्नान किया जा सकता है। कहा जाता है कि अगर अमावस्या के दिन प्रातः स्नान किया जाए तो व्यक्ति के जीवन से सभी परेशानियां खत्म हो जाती है।

मछलियों को खिलाएं आटा

पौष अमावस्या के दिन स्नान के बाद आटे से बनी गोलियां मछलियों को खिलाएं। ऐसा करने से पितर देवता प्रसन्न हो जाते है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article