fbpx

पीयूष गोयल की टिप्पणी पर हमलावर हुआ विपक्ष, सरकार को लिया आड़े हाथ

Must read

मोदी सरकार पर निशाना साधने में अब विपक्ष एक मौका भी नहीं छोड़ रहा। अपनी एक टिप्पणी को लेकर अब केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल अब विपक्ष का शिकार हो गए है।


दरअसल विपक्षी नेताओं ने केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल द्वारा भारतीय उद्योग जगत की कार्य प्रणाली की आलोचना किए जाने के दावे वाली एक खबर का हवाला देते हुए सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है।


खबर की माने तो ऐसा कहा जा रहा है कि भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के एक कार्यक्रम में पीयूष गोयल ने भारतीय उद्योग जगत की कार्य प्रणाली पर सवाल करते हुए यह कह दिया कि भारतीय उद्योग जगत की कार्य प्रणाली राष्ट्रीय हितों के खिलाफ चली गई है।


दरअसल इस खबर की पुष्टि अंग्रेजी के मशहूर अखबार ‘द हिंदू’ में की गई है। ‘द हिंदू’ में प्रकाशित एक खबर में यह कहा गया है कि गोयल ने अपनी टिप्पणी में टाटा समूह को निशाना बनाते हुए कहा कि, ‘क्या आप जैसी कंपनी, एक दो, आपने शायद कोई विदेशी कंपनी खरीद ली, उसका महत्व ज्यादा हो गया, देश हित कम हो गया?’ बता दें कि मंत्री से जुड़े सूत्रों का इस टिप्पणी पर यह कहना है कि गोयल की टिप्पणी को संदर्भ से हटकर पेश किया गया है।

Advertisement


पीयूष गोयल के करीबी एक सूत्र का यह कहना है कि, ‘इस संवाद का सार राष्ट्रीय हित से संबंधित था। मंत्री की दिल से की गई अपील को व्यापक रूप से देखने की जरूरत है, इसे सिर्फ झूठी निंदा के लिए सीमित दायरे में देखने की जरूरत नहीं है।’


आपको बता दें कि पीयूष गोयल की इस टिप्पणी के बाद से कई विपक्षी दलों ने गोयल पर निशाना साधते हुए सरकार को आड़े-हाथों लेना शुरू कर दिया है।


कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘सबसे पहले गोयल ने सुनिश्चित किया कि राज्यसभा नहीं चले और अब इस तरह की अजीबो-गरीब टिप्पणी। वह आधिकारिक स्वीकृति के बिना यह नहीं बोल सकते थे। क्या वह बोल सकते हैं?’


कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस टिप्पणी पर ट्वीट करते हुए कहा कि, ‘आज़ादी से आज तक के “मेक इन इंडिया” वाले देश के उद्योगपतियों व निर्माताओं को लताड़ो व बेइज्जत करो। सिर्फ़ हम दो, हमारे दो का परिवार, बाक़ी सब हैं निकम्मे और बेकार, यही कहती है मोदी सरकार।’


आम आदमी पार्टी के राघव चड्ढा ने अपने ट्वीट के माध्यम से तंज कसते हुए कहा कि, ‘प्रिय कारपोरेट इंडिया, व्यक्ति जो बोता है, वही काटता है। शुभकमानाएं।’

वहीं शिवसेना की सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने अपने ट्वीट में दावा किया कि पीयूष गोयल की ओर से जिन शब्दों का इस्तेमाल किया गया है वो शर्मनाक है। उन्होंने कहा कि सीआईआई को वीडियो हटाकर मंत्री की मदद करने के बजाय उनसे माफी मांगने के लिए कहना चाहिए।


पीयूष गोयल की टिप्पणी पर हमलावर होते हुए एआईएमआईम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री मोदी उद्योगपतियों को भरोसे में लेना चाहते हैं, लेकिन उनके मंत्री उन लोगों को जवाबदेह ठहराना चाहते हैं।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article