fbpx

‘फिल्म क्रिटिक्स’ अनुपमा चोपड़ा ने माधवन की ‘रॉकेटरी: द नांबी इफेक्ट’ पर किया हमला

Must read

राजन चौहान
राजन चौहानhttps://www.duniyakamood.com/
मेरा नाम राजन चौहान हैं। मैं एक कंटेंट राइटर/एडिटर दुनिया का मूड न्यूज़ पोर्टल के साथ काम कर रहा हूँ। मेरे अनुभव में कुछ समाचार चैनलों, वेब पोर्टलों, विज्ञापन एजेंसियों और अन्य के लिए लेखन शामिल है। मेरी एजुकेशन बैचलर ऑफ टेक्नोलॉजी (सीएसई) हैं। कंटेंट राइटर के अलावा, मुझे फिल्म मेकिंग और फिक्शन लेखन में गहरी दिलचस्पी है।

फिल्म क्रिटिक्स अनुपमा चोपड़ा ने आर माधवन की ‘रॉकेटरी: द नांबी इफेक्ट’ का रिव्यू किया है। उन्होंने विषय के हिंदू धर्म और उनकी देशभक्ति के साथ एक समस्या दिखी है। पद्म भूषण नंबी नारायणन के जीवन पर आधारित फिल्म का रिव्यू लिखते हुए, चोपड़ा ने कहा कि फिल्म ने बार-बार नंबी की देशभक्ति को उजागर किया है और इसके साथ ही उनके धर्म पर भी ध्यान दिया है। “यह सराहनीय है कि फिल्म नारायणन की कई उपलब्धियों को सुर्खियों में लायी है, लेकिन पटकथा बार-बार उनकी देशभक्ति को रेखांकित करती है और उनके धर्म पर भी निर्भर करती है।”

आपको बता दें कि दो दशकों से अधिक समय तक भारतीय फिल्म उद्योग में काम करने के बाद, आर माधवन ने रॉकेट्री: द नांबी इफेक्ट के साथ अपने निर्देशन की शुरुआत की है।

हालाकि सभी ने फिल्म को सभी ने पॉजिटिव रिव्यू दिए है। लेकिन क्रिटिक्स अनुपमा चोपड़ा ने आर माधवन का ध्यान आकर्षित किया क्योंकि उन्होंने इसे भयानक पाया है।

ऐसा हुआ कि Film Companion की अनुपमा चोपड़ा ने अपने रिव्यू में नंबी नारायणन के “सच्चे-नीले हिंदू देशभक्त” होने का उल्लेख किया है। नारायणन का पहला दृश्य उनके घर के पूजा कक्ष में है। महत्वपूर्ण क्षणों में, वह प्रार्थना करता है। नारायणन सच्चे हिंदू देशभक्त हैं।”

Advertisement

उनके रिव्यू पर प्रतिक्रिया करते हुए, फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने उन्हें ट्विटर पर लिखा, “.अनुपमा चोपड़ा यह हिंदूफोबिक है। अगर नारायणन एक हिंदू देशभक्त हैं और महत्वपूर्ण समय के दौरान प्रार्थना करते हैं तो इससे आप परेशान क्यों है।

हर निर्माता फिल्म में चीजों को सही नहीं ठहराता है। जैसा शिकारा में विधु विनोद चोपड़ा ने किया था। माधवन ने शानदार काम किया है और इसकी प्रशंसा करने की मुझ में हिम्मत है।” माधवन ने भी उनके विचारों की निंदा करते हुए कहा कि अगर उन्हें फिल्म पसंद नहीं है तो वह ठीक हैं लेकिन इसे धार्मिक मोड़ देना ठीक नहीं है।

आपको बता दें कि अनुपमा चोपड़ा फिल्म निर्माता विधु विनोद चोपड़ा की पत्नी हैं, जिनकी हाल ही में उनकी 2020 की फिल्म शिकारा के लिए आलोचना की गई थी, जो 1990 में कश्मीरी पंडितों के पलायन पर बनी थी।

ये भी पढ़े धनुष की नई फिल्म ‘कैप्टन मिलर’ हुए अनाउंस, 1930 के मद्रास में सेट है फिल्म

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article