fbpx

प्रधानमंत्री ने पैरा खिलाड़ियों से की मुलाकात, कहा – आपसे मुझे प्रेरणा मिलती है

Must read

टोक्यो पैरालंपिक अब खत्म हो चुके हैं। इस बार पैरालंपिक का आयोजन टोक्यो में 24 अगस्त से 5 सितंबर के बीच हुआ था। पैरालंपिक में भारत के 54 खिलाड़ियों ने 9 खेलों में हिस्सा लिया लिया था। भारतीय खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन दिखाकर पांच स्वर्ण के अलावा आठ रजत और छह कांस्य पदक जीते।

टोक्यो पैरालंपिक में भारतीय खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया है। भारत ने टोक्यो पैरालंपिक में 5 गोलड, 8 सिल्वर मेडल और 6 ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं। इसके साथ भारत ने कुल 19 पदक जीते हैं। टोक्यो पैरालंपिक में शानदार प्रदर्शन करने वालों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तारीफ की और कहा कि, सभी खिलाड़ियों को देखकर मुझे गर्व महसूस होता है।

आपको बता दें कि पीएम मोदी ने गुरुवार को पैरा खिलाड़ियों से मुलाकात की, इस मुलाकात का वीडियो रविवार को सामने आया। मुलाकात के दौरान उन्होंने कहा, ‘‘मुझे आप सभी से प्रेरणा मिलती है।’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘आपने हारी हुई मानसिकता को हरा दिया, बहुत बड़ी बात है। आपकी छोटी चीजें भी देश को काफी प्रेरित कर सकती हैं, आप आगे देश को कैसे प्रेरित करोगे। आप स्कूलों आदि में जा सकते हो। खेल की दुनिया के अलावा आप देश के लिए कुछ और भी कर सकते हो और बदलाव लाने में मदद कर सकते हो।’’पीएम ने खिलाड़ियों के समर्थन का वादा करते हुए कहा कि, पूरा देश खेल जगत के उत्कृष्टता हासिल करने के सपने को साझा करता है। उन्होंने कहा, ‘‘आप काफी कुछ दे सकते हैं, भविष्य उज्ज्वल है। मैं हमेशा आपका साथ देने के लिए मौजूद हूं, आपका सपना हमारा सपना है और इसे साकार करने के लिए जो भी करना होगा मैं करूंगा।’’

Advertisement

बैडमिंटन खिलाड़ी कृष्ण नागर के अपने पदक को कोविड-19 योद्धाओं को समर्पित करने को कहा, इस पर पीएम मोदी ने उनसे कहा, ‘‘यह बात मेरे दिल को छू गई लेकिन जब आपने यह किया तो आप क्या सोच रहे थे?’’ कृष्ण नागर ने कहा, ‘‘मैंने देखा कि स्वास्थ्यकर्मी अपनी परवाह किए बगैर अपना काम कर रहे हैं, इसी से प्रेरित होकर मैंने ऐसा कहा।’’

वहीं, रजत पदक जीतने वाली टेबल टेनिस खिलाड़ी भाविना बेन पटेल ने बताया कि, खेलों के दौरान मुझे बुखार हो गया था। इसके कारण मेरा पहला मुकाबला अच्छा नहीं रहा। यह मुश्किल दिन था लेकिन मैंने विदाई के दौरान आपके शब्दों के बारे में सोचा और उस दिन मैं आपसे मुलाकात करने वाले लोगों में शामिल नहीं थी। इसलिए मैंने फैसला किया कि आपसे मिलने के लिए मैं कुछ भी करूंगी। मैंने साथ ही सोचा कि शायद यह मेरा एकमात्र मौका है।’’ जिसके बाद पीएम ने कहा, ‘‘कभी नकारात्मक मत सोचो, आप जाइंट किलर हो।’’ खिलाड़ियों ने प्रधानमंत्री को अपना निजी सामान और ऑटोग्राफ वाला स्टॉल भी दिया।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article