fbpx

Subramanian Swamy ने चीन के मुद्दे पर एक बार फिर साधा PM Modi पर निशाना, मोदी सरकार से सवाल करते हुए पूछा कि क्या मोदी सरकार में सच्चाई को स्वीकार करने की हिम्मत है या नहीं?

Must read

हमेशा अपने बयानों को लेकर मीडिया की सुर्खियों में रहने वाले भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर से चीन के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। मोदी सरकार से सवाल पूछते हुए सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया, यह सच मानने का दम मोदी सरकार में है या नहीं?

दरअसल, सुब्रमण्यम स्वामी ने यह सब अपने ट्वीट में कहा, उन्होंने लिखा कि “चीन पहले ही हम पर आक्रमण कर चुका है, कुछ हजार वर्ग किलोमीटर पर कब्जा कर चुका है, टाउनशिप, सड़कें और निगरानी चौकियां बना चुका है। और हम जानते ही नहीं है। कोई आया नहीं… क्या मोदी सरकार इस सच्चाई को स्वीकार करने की हिम्मत कर रही है? या देश को 1962 की तरह चीन से अधिक अपमान सहना पड़ेगा?”


बता दें कि, इससे पहले भी बीते बुधवार को सुब्रमण्यम स्वामी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलने के बाद मोदी सरकार का रिपोर्ट कार्ड ट्वीट करके भाजपा सरकार पर निशाना साधा था।

इस दौरान सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट में लिखा था कि, “अर्थव्यवस्था- फेल, सीमा सुरक्षा- फेल, विदेश नीति- अफ़ग़ानिस्तान की नाकामयाबी, राष्ट्रीय सुरक्षा- पेगासस एनएसओ, आंतरिक सुरक्षा- अंधकारमय कश्मीर। इस सब के लिए जिम्मेदार कौन है?- सुब्रमण्यम स्वामी।”

Advertisement

आपको बता दें कि भाजपा के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी आर्थिक नीतियों को लेकर लगातार मोदी सरकार के आलोचक रहे हैं। उनकी अपनी पार्टी की सरकार होते हुए भी वह लगातार सरकार के खिलाफ बोलते और लिखते रहे हैं। इतना ही नहीं सुब्रमण्यम स्वामी ने अलग-अलग मंचों से लगातार ये भी कहा है कि देश में जो आर्थिक नीतियां मौजूदा सरकार लेकर चल रही है, उससे स्थिति बेहतरी की बजाय और ज्यादा खराब होने की ओर जा सकती है।

बताते चलें कि इससे पहले सुब्रमण्यम स्वामी ने बीते बुधवार को ही दिल्ली में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की थी। उनकी और ममता बनर्जी की इस मुलाकात के बाद से ही उनके तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) में शामिल होने को लेकर चर्चाएं गर्म है क्योंकि ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद वह उनकी उनकी तारीफें करते हुए नहीं तक रहे थे।

More articles

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article