fbpx

दुष्कर्म पीड़ित बच्ची को लेकर पांच अस्पतालों में घंटों चक्कर काटता रहा पिता, लहूलुहान देखकर भी भर्ती करने से किया इंकार!

Must read

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में फिर एक बार इंसानियत को शर्मशार करने का मामला सामने आया है। रणजीत नगर इलाके में एक युवक ने छह साल की मासूम को बंधक बनाकर न सिर्फ दुष्कर्म किया, बल्कि विरोध करने पर मारपीट भी की। दर्द से कराहती बच्ची की पीड़ा यहीं खत्म नहीं हुई। बेटी को लेकर बेबस पिता दिल्ली के 5 नामचीन अस्पतालों के बीच करीब 15 किमी और ढाई घंटे तक चक्कर काटता रहा, लेकिन इलाज देने के बजाय उसे दूसरे अस्पतालों में जाने के लिए कहा गया

सरदार पटेल अस्पताल से लेडी हार्डिंग अस्पताल, आगे कलावती, फिर लेडी हार्डिंग…
खून से लथपथ बच्ची को लेकर नई दिल्ली और मध्य दिल्ली में स्थित इन अस्पतालों के बीच उसे एंबुलेंस से भटकना पड़ा। आखिरकार, डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में वह अपनी बेटी को भर्ती करा पाया। आईसीयू में भर्ती मासूम की 36 घंटे बाद भी हालत नाजुक बनी हुई है।

बच्ची की सेहत पर सवाल करते ही शनिवार को पिता रो पड़े। सिसकते हुए बताया कि शुक्रवार सुबह करीब साढ़े 10 बजे पत्नी ने घटना की जानकारी दी तो भागकर घर पहुंचा। घर के बाहर भीड़ जमा थी और किसी ने घटना की जानकारी पुलिस और एंबुलेंस को दे दी थी।

एंबुलेंस के मौके पर पहुंचते ही वह बच्ची को लेकर अस्पताल भागा। करीब 11 बजे सरदार पटेल अस्पताल पहुंचा। वहां कहा गया कि बच्ची का इलाज यहां संभव नहीं है, लेडी हार्डिंग अस्पताल जाना पड़ेगा। इस दौरान अस्पतालकर्मियों से मिन्नतें करता रहा, लेकिन किसी ने उसकी नहीं सुनी। थक हारकर करीब 12 बजे लेडी हार्डिंग अस्पताल पहुंचा। वहां से कलावती अस्पताल जाने की सलाह दी गई।

Advertisement

कलावती अस्पताल में कहा गया कि दूसरे इलाके का मामला है। उसे वापस लेडी हार्डिंग जाने को कहा गया। इस बीच बच्ची दर्द से बेहाल थी। बेटी का सिर थामे पिता उसे वापस लेडी हार्डिंग अस्पताल ले गया, जहां से उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाने की सलाह दी गई।

दोपहर करीब 1:30 बजे राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती करा पाया। पहले बच्ची को स्थिर करने के लिए प्राथमिक इलाज किया और फिर शाम छह बजे ऑपरेशन करने के बाद रात 11:00 बजे उसे गहन चिकित्सा कक्ष में भेज दिया गया। बच्ची की हालत अब भी गंभीर है।

बताया जा रहा है कि बच्ची का पिता माल ढोने वाला रिक्शा चलाता है, जबकि मां घरों में साफ-सफाई का काम करती है। बच्ची की 11 महीने की छोटी बहन है।  पिता ने बताया कि शुक्रवार सुबह बेटी गुरुद्वारे में लंगर लेने गई थी। एक बार लंगर लेकर घर पहुंचाया और उसके बाद दोबारा चली गई। वापस लौटने पर खून से लथपथ थी। पूछताछ में मां को बताया कि रास्ते में 20 से 25 साल का युवक उसे कॉपी-किताब देने का लालच देकर अपने साथ एक कमरे में ले गया, जहां उसके साथ गलत काम किया। युवक के वहां से जाने के बाद बच्ची किसी तरह घर पहुंची।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article