fbpx
Home नया ताज़ा यूक्रेन वार: युद्धविराम की घोषणा के बावजूद रूस ने मारियुपोल, वोल्नोवाखा पर...

यूक्रेन वार: युद्धविराम की घोषणा के बावजूद रूस ने मारियुपोल, वोल्नोवाखा पर जारी रखा हमला

0
108
Ukraine War

रूस ने कहा कि उसके बलों ने शनिवार को दो यूक्रेनी शहरों के पास गोलीबारी बंद कर दी थी, लेकिन एक शहर के अधिकारियों ने कहा कि मॉस्को सीमित युद्धविराम का पूरी तरह से पालन नहीं कर रहा है। रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसकी इकाइयों ने मारियुपोल और वोल्नोवाखा शहरों के पास मानवीय गलियारे खोले हैं, जिन्हें उसके सैनिकों ने घेर लिया था, क्योंकि यूक्रेन पर रूस का आक्रमण को आज 10 वां दिन हो गया है।

लेकिन मारियुपोल में, नगर परिषद ने कहा कि रूस युद्धविराम का पालन नहीं कर रहा है और निवासियों को आश्रयों में लौटने और निकासी के बारे में अधिक जानकारी के लिए प्रतीक्षा करनी होगी। रूस के रक्षा मंत्रालय ने यूक्रेन के “राष्ट्रवादियों” पर नागरिकों को जाने से रोकने का आरोप भी लगाया है।

मेडिसिन्स सेंस फ्रंटियर्स के स्टाफ के एक सदस्य का कहना है कि “इस रात गोलाबारी कठिन और करीब थी,” अभी भी कोई बिजली, पानी, हीटिंग या मोबाइल फोन लिंक नहीं था और भोजन अपर्याप्त था । यूक्रेनी सरकार ने बताया कि उनकी योजना मारियुपोल से लगभग 200,000 लोगों और वोल्नोवाखा से 15,000 लोगों को निकालने की थी, और रेड क्रॉस युद्धविराम का गारंटर है।

सीमित युद्धविराम योजनाओं के बावजूद, रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि यूक्रेन में एक व्यापक आक्रमण जारी रहेगा। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता इगोर कोनाशेनकोव ने कहा कि रूसी सेना सैन्य बुनियादी ढांचे पर हमले कर रही थी, वहीं डोनेट्स्क की सेना मारियुपोल की घेराबंदी कर रही थी।

Advertisement

सहायता एजेंसियों ने देश भर में मानवीय आपदा की चेतावनी दी है क्योंकि भोजन, पानी और चिकित्सा आपूर्ति कम हो गई है। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी के प्रमुख ने शनिवार को कहा कि सप्ताहांत के अंत तक शरणार्थियों की संख्या मौजूदा 13 लाख से बढ़कर 15 लाख हो सकती है। ठंड की स्थिति में महिलाएं और छोटे बच्चे दक्षिणपूर्वी पोलैंड में मेड्यका चेकपॉइंट पर पहुंचे। जहां दूसरा रास्ता पार करने वाले एक व्यक्ति ने भीड़ से चिल्लाकर कहा है कि पुरुषों को यूक्रेन लौट जाना चाहिए और लड़ना चाहिए।

राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 24 फरवरी को यूक्रेन पर आक्रमण शुरू किया। जिसकी दुनिया भर में निंदा की गयी है। यूक्रेन में अधिकारियों ने हजारों नागरिकों के मारे जाने और घायल होने की सूचना दी है और कई देशों ने रूस पर भारी प्रतिबंध लगाए हैं। मॉस्को का कहना है कि उसका उद्देश्य अपने पड़ोसी को निरस्त्र करना है, जिसे वह नाटो की आक्रामकता के रूप में देखता है और उन नेताओं को पकड़ना है जिन्हें वह नव-नाज़ी कहते हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here