fbpx

यूक्रेन से अपने नागरिकों को निकालने के लिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयासों की केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने की प्रशंसा

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

गुरुवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने एक कार्टून साझा किया, जिसमें भारत और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के युद्धग्रस्त यूक्रेन से अपने नागरिकों को निकालने के प्रयासों की प्रशंसा की गई। चित्रण दिखाता है कि मोदी आधे पानी में डूबे हुए हैं, उनके दोनों हाथ आगे बढ़ाए हुए हैं, एक नदी के बीच एक पुल का निर्माण करते हैं, जिसके दोनों ओर यूक्रेन और भारत के लिए खड़े प्रतीत होते हैं। चित्रण अन्य देशों के नागरिकों को अपनी-अपनी सरकारों से मदद की गुहार लगाते हुए दिखाता है।

पीएम मोदी भारतीय छात्रों को युद्ध प्रभावित यूक्रेन से निकालने के लिए एक पुल की तरह कार्य कर रहें है। लेकिन अपने फंसे हुए नागरिकों के लिए अन्य देशों से भी इसी तरह की मदद नहीं मिल रही है। मंत्री ने कार्टून को साझा करने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म कू का सहारा लिया, जिसे बाद में व्यापक रूप से साझा किया गया और वायरल हो गया। इसे ट्विटर पर भी पोस्ट किया गया था। गोयल ने इसे इस तरह से कैप्शन दिया: ‘पीएम नरेंद्र मोदी जी, भारत के’ ब्रिज ऑफ होप ‘।

छात्रों से नरेंद्र मोदी ने की बातचीत-

इस बीच, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उन छात्रों के साथ बातचीत की, जो युद्ध प्रभावित यूक्रेन से लौटे हैं और उत्तर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से हैं, उन्होनें मोदी के साथ अपने अनुभव साझा किए है।

Advertisement

सरकार ने शुरु किया “ऑपरेशन गंगा”

सरकार ने यूक्रेन से भारतीय नागरिकों, ज्यादातर छात्रों को निकालने के लिए “ऑपरेशन गंगा” शुरू किया है, जिस पर रूस ने हमला किया है। सरकार पहले ही चार केंद्रीय मंत्रियों को यूक्रेन के पड़ोसी देशों में भारत के “विशेष दूत” के भेज चुकी है।

रूस-यूक्रेन के बीच दूसरे दौर की हो सकती है बातचीत-

आपको बता दें कि आज आठ दिनों से जारी भीषण युद्ध के बीच रूस-यूक्रेन दूसरे दौर की बातचीत कर सकते हैं। ये बातचीत बेलारूस-पोलैंड के बॉर्डर होनी है।

क्वॉड की वर्चुअल बैठक हुई शुरु-

इस संकट को लेकर क्वॉड की वर्चुअल बैठक शुरू हुई है। जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और पीएम मोदी भी मौजूद हैं। साथ ही ऑस्ट्रेलिया और जापान के पीएम इसमें शामिल है। वहीं भारत सरकार ने खारकीव में रहने वाले भारतीयों के लिए नई एडवाइजरी जारी की है। भारतीयों से तत्काल अपनी जानकारी दूतावास में देने को कहा गया है।

पुतिन और मैकों के बीच हुई बातचीत-

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने फ्रांस के राष्ट्रपति मैकों से की बात। दोनों नेताओं ने करीब 90 मिनट तक बात की।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article