fbpx

वास्तु शास्त्र: अपनी सोई किस्मत को चाहते हो जगाना‌ तो घर में करें ये 3 बदलाव, जल्द दिखेगा फायद!

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

नई दिल्ली: वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में मौजूद हर चीज का प्रभाव आपकी जिंदगी पर पड़ता है जिस घर में वास्तु दोष नहीं होता, उनके घर में सुख-समृद्धि और रिद्धि-सिद्धि का वास रहता है।

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर की दिशा और उसके डिजाइन में कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना जरूरी है। माना जाता है कि घर बनवाते समय वास्तु के नियमों को नजरअंदाज करने से नकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है, ऐसे में घर के वास्तु दोष को दूर करने और सकारात्मक ऊर्जा के संचार के लिए घर में कुछ बदलाव करना चाहिए।

घर का पूजा मंदिर

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर के पूजा मंदिर के लिए सबसे उपयुक्त दिशा ईशान कोण (पूर्व-उत्तर का कोना) है। ऐसे में घर का मंदिर हमेशा पूर्व, उत्तर या पूर्व-उत्तर के कोण में होना चाहिए। साथ ही मंदिर थोड़ी उंचाई पर भी होनी चाहिए।

Advertisement

घड़ी की दिशा

वास्तु शास्त्र के मुताबिक अगर घर में उचित स्थान पर घड़ी ना लगाई जाए तो जीवन में अनेक आर्थिक परेशानियां आती हैं। वास्तु के मुताबिक घर में कभी भी घड़ी को पश्चिम या दक्षिण दिशा में नहीं लगाना चाहिए। वहीं, घड़ी को पूर्व या उत्तर दिशा में लगा सकते हैं

तुलसी का पौधा

हिंदू धर्म में तुलसी का विशेष महत्व है। वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि तुलसी का पौधा घर के आंगन में लगा होना चाहिए। इसके अलावा तुलसी के पौधे को घर के पूर्व या पूर्व-उत्तर दिशा में लगना शुभ माना गया है। इस तरह से तुलसी का पौधा लगाने से आर्थिक संकट दूर होते हैं। साथ ही घर में खुशहाली बरकरार रहती है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article