fbpx

दक्षिण दिशा की तरफ पैर करके सोना आखिर क्यों माना जाता है अशुभ, जाने सोने को लेकर क्या कहता है वास्तु शास्त्र!

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

नई दिल्ली: हिन्दू धर्म में वास्तु का बेहत महत्व माना गया है। वास्तु के अनुसार घर की कुछ दिशाएं अच्छी होती हैं तो कुछ दिशाओं से संभलकर रहना चाहिए। घर में अलग-अलग कामों को लेकर विभिन्न दिशाओं को वास्तु शास्त्र में बताया गया है। इसी प्रकार, सोते समय किस दिशा की तरफ मुंह और किस तरफ पैर होना चाहिए इसके विषय में भी वास्तु सुझाव देता है। माना जाता है कि दक्षिण दिशा की तरफ पैर करके सोना सही नहीं होता है।
तो आइए जानते, सोने के संबंध में वास्तु क्या कहता है-

  • सोने को लेकर वास्तु शास्त्र
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार दक्षिण दिशा में पैर नहीं बल्कि सिर करके सोना चाहिए। मान्यता है कि दक्षिण दिशा मंगल की दिशा है और इस दिशा में पांव करके सोने से मंगल दोष लग सकता है।
  • वास्तु शास्त्र के अनुसार पूर्व या दक्षिण की तरफ सिर और पश्चिम या उत्तर दिशा की ओर पैर करके सोया जा सकता है। वहीं, यह भी कहा जाता है कि इस तरफ सिर रखकर सोने पर अच्छी नींद आती है और घर में सुख बना रहता है।
  • वास्तु के अनुसार पलंग घर के कोने वाली जगह में नहीं रखना चाहिए। साथ ही पलंग के पीछे की तरफ खिड़कियां लगाना अच्छा नहीं मानते। खिड़की की तरफ चिपकाकर भी पलंग को रखना सही नहीं माना जाता है।
  • माना जाता है कि दक्षिण दिशा की तरफ पैर करके सोने से नकारात्मक विचार मन में घर करने लगते हैं। इसके अलावा वास्तु में पूर्व दिशा के लिए भी यही समान निर्देश दिए गए हैं‌। पूर्व दिशा को वास्तु शास्त्र में देवताओं की दिशा माना जाता है, इसलिए इस दिशा में पैर ना करके सोने की सलाह दी जाती है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article