fbpx

अगर आपको है देर रात जागने की आदत, तो एक बार जरूर पढ़े यह खबर ?

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

आज के समय में देश की कुल आबादी में से करीब 35 प्रतिशत आबादी ऐसी है जो नींद की समस्या का सामना कर रही है और इसी खराब जीवनशैली के कारण हमारी सेहत पर भी इसका बुरा असर पड़ता है।

इसके अलावा देर रात तक काम करना, टीवी देखना, मोबाइल पर गेम खेलना यह आदते भी हमारी नींद को कई हद तक प्रभावित करती है। इतना ही नहीं कई लोगों की आदत ऐसी बन चुकी है कि उन्हें 1 या 2 बजे से पहले नींद ही नहीं आती और यही आदते हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाती है।

कई विशेषज्ञों का मानना है कि हमारे देर रात जागने की आदत की वजह से हमारी स्लीप साइकल प्रभावित होती है जिसकी वजह से हमारी नींद पूरी नहीं हो पाती और आगे चलकर यही वजह बनती है सर्कैडियन रिदम स्लीप डिसऑर्डर की।

सर्कैडियन रिदम स्लीप डिसऑर्डर एक ऐसी समस्या होती है जिसकी वजह से हमें सोने में मुश्किल होना, रात में अक्सर नींद टूट जाना और नींद पूरी न हो पाने जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

Advertisement

केवल इतना ही नहीं इससे कई गंभीर बीमीरियों के खतरे का जोखिम भी बढ़ जाता है जिसकी जानकारी हम आपको अपनी आज की पोस्ट में देने वाले है। तो आइए नींद की कमी से होने वाली बीमारियों को जानते है।

हार्ट अटैक का खतरा

कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि जो लोग देर रात तक जागते है। उनकी नींद पूरी नहीं हो पाती और इस अधूरी नींद का सीधा असर पड़ता है उनके हार्ट पर जिससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है। इसी को लेकर यूरोपियन हार्ट जर्नल में एक आर्टिकल भी पोस्ट किया गया था।

जिसमें दर्शाया गया था कि जो लोग 5 घंटे से कम या फिर 9 घंटे से ज्यादा सोते है उन लोगों में अन्य लोगों की तुलना में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।

दिमाग की सेहत पर पड़ता है असर

नींद का पूरा ना होना हमारी मानसिक स्वास्थय पर भी असर डालता है। इसके अलावा इससे दिमाग की क्षमता पर भी बहुत गहरा असर पड़ता है। इसको लेकर एक्सपेरिमेंटल ब्रेन रिसर्च द्वारा एक शोध किया गया था।

जिसमें एक 18 पुरुषों का समूह बनाया गया जिसे दो टास्क दिए गए जिनमें से पहला टास्क था पूरी नींद लेना और दूसरा टास्क था रात भर जागना।

इसके बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि मात्र एक रात नींद पूरी न हो पाने के कारण प्रतिभागियों के दिमाग में निर्णय लेने और तर्क करने की क्षमता पूरी तरह से हिल गई थी।

यौन इच्छा को करता है कम

नींद ना पूरी हो पाने की वजह से इसका असर आपकी सेक्स ड्राइव पर भी पड़ता है। जिसका खुलासा एक अध्ययन में किया गया, जिसमें सामने आया कि जो व्यक्ति एक हफ्ते तक नहीं सोए या फिर लेट सोए उन पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर अन्य पुरूषों के मुकाबले में बहुत कम था।

इस शोध में यह भी निकलकर सामने आया कि जो 5 या फिर उससे कम घंटे की नींद लेता है उसके सेक्स हार्मोन का स्तर 10 से 15 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article