11.1 C
Delhi
बुधवार, फ़रवरी 8, 2023

जानें, गुरुवार का व्रत करने से क्या होता है, इसका उद्यापन कब होता है और इस व्रत में क्या खाना चाहिए ?

नई दिल्ली: हिंदू धर्म में गुरुवार या बृहस्पतिवार के दिन को भगवान विष्णु जी और बृहस्पति देव जी को समर्पित माना जाता है। गुरुवार के दिन श्री हरी भगवान विष्णु जी की पूजा और व्रत करना बेहद शुभ होता है। मान्यताओं के अनुसार, इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करके आप धन की देवी मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त कर सकते है। इससे आपके घर पर सुख-शांति, समृद्धि और धन-संपदा सदैव बनी रहती है। इसके अलावा माना ये भी जाता है कि गुरुवार का व्रत करने से कुंडली में गुरु ग्रह भी मजबूत होता हैं। अगर कोई कुंवारी कन्याएं गुरूवार के व्रत को करती हैं, तो इससे उन्हें मनचाहे वर की प्राप्ति होती है और उनकी शादी में आ रही सभी बाधाएं दूर हो जाती है। इस व्रत को करने से वैवाहिक जीवन सुखमय बन जाता है। अगर आप भी इस व्रत को करने की सोच रहे हो तो पहले इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें जान लें।

Table of Contents

गुरुवार का उद्यापन कब करना चाहिए

गुरुवार का उद्यापन

आपको बता दें, बृहस्पतिवार के दिन के व्रत की शुरुआत आप पौष मास के अलावा किसी भी मास के शुक्ल पक्ष के पहले गुरुवार के दिन से कर सकते है। ऐसा करना शुभ माना जाता है। इस व्रत को श्री हरी भगवान विष्णु और बृहस्पति देव जी विशेष कृपा पाने के लिए 16 गुरुवार के दिन लगातार व्रत रखना चाहिए और वहीं जब 17वां बृहस्पतिवार को व्रत आए तो इस दिन उद्यापन कर लेना चाहिए। वहीं महिलाएं मासिक धर्म के चलते व्रत नहीं रख सकती है। इसके अलावा गुरुवार के व्रत को 1 साल ,3 साल ,5 साल ,7 साल और 9 साल या फिर आजीवन भी रख सकते हैं।

ये भी पढ़े जानिए सकट चौथ 2023 कब की है, क्या है शुभ तिथि और कैसे करें इस दिन पूजन ?

बृहस्पतिवार के व्रत में क्या खाना चाहिए

भगवान विष्णु जी और बृहस्पति देव जी के व्रत में आप मक्खन, दूध, दही, पनीर का सेवन कर सकते हैं, इससे आपके शरीर को प्राप्त एनर्जी मिलती रहेगी।

बृहस्पतिवार के व्रत में आप  कुट्टू का आटा, अरारोट का आटा, सिंघाड़े का आटा, राजगीरा आटा, साबूदाना और समा चावल के चावलों को बना कर खा सकते हैं।

इस व्रत में आप सभी फलों का सेवन कर सकते हैं, जैसे- अंगूर, पपीता, संतरा, खरबूज, तरबूज। इनसे आपके शरीर को पोषण मिलेगा और बॉडी भी हाइड्रेट रहेगी।

बृहस्पतिवार के व्रत में आप टमाटर, गाजर, शकरकंद और खीरा का सेवन कर सकते है इससे आपका पेट ठंडा रहता है।

इस व्रत के दौरान आप अपने शरीर में एनर्जी को बनाए रखने के लिए ड्राई फ्रूट्स का सेवन कर सकते है, जैसे- काजू, बादाम, पिस्ता, अखरोट, डेट्स,  मूंगफली। इनका सेवन करने से आपको जल्दी भूख भी नहीं लगती।

गुरूवार के व्रत का खाना बनाते समय आप लाल मिर्च,गुड़, साबुत मसाले, सेंधा नमक, जीरा, अमचूर जैसी चीजों को उपयोग कर सकते है।

बृहस्पतिवार के व्रत में अपने व्रत का खाना मूंगफली तेल, देशी घी या सनफ्लावर ऑयल में ही बनाएं।

जानें, गुरुवार के व्रत में केला खाना चाहिए या नहीं?

मान्यताओं के अनुसार, हिंदू धर्म मे गुरुवार के दिन केले का सेवन करने से मना किया जाता है, केला खाना इस दिन अशुभ माना जाता है। माना जाता है कि बृहस्पति देव जी का वास केले के पेड़ में  होता है और केले के पेड़ में श्री हरी का भी निवास होता है। बृहस्पतिवार के दिन केले के पेड़ की पूजा करना भी बेहद शुभ माना जाता है। इसी वजह से गुरूवार के व्रत में केले का सेवन करने से मना किया जाता है। इस दिन केला श्री हरी को अर्पित किया जाता है। भगवान श्री विष्णु जी को केले का भोग लगाने के बाद आप उसे केले को किसी को दान कर दें।

जानें, गुरुवार के व्रत में दूध पीना चाहिए या नहीं?

अक्सर बहुत से लोगों के मन में ये सवाल बना ही रहता है कि बृहस्पतिवार के व्रत में दूध पीएं या नहीं। तो आपको बता दें भागवान श्री हरी के व्रत में आप दूध पी सकते है लेकिन उसके साथ भी कई चीजों का विशेष ध्यान रखना होता है। बृहस्पतिवार के व्रत में आप नमक का सेवन नही कर सकते है।  इस व्रत में आप दूध से बनी चीजों का भी सेवन कर सकते है।

ये भी पढ़े लाल किताब के ये टोटके मात्र 24 घंटों में दिला सकते हैं आपको सभी समस्याओं से छुटकारा, जानिए कौनसे हैं ये खास उपाय ?

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles