26.1 C
Delhi
रविवार, अप्रैल 14, 2024
Recommended By- BEdigitech

आप जो चाहे कह लो लेकिन हार मानना इस बन्दे की आदत में नहीं!

दौर बदलते हैं हवा बदल जाती है और उसी के साथ बदल जाता है सफलता और असफलता का ग्राफ! कभी आप उपर होते हो तो कभी नीचे! ऐसी कई हवाओं से गुजर चुके हैं राहुल गांधी! वैसे भले ही देश को सबसे अधिक प्रधानमंत्री देने वाले परिवार से ताल्लुक रखते हों लेकिन एक सच ये भी है कि गांधी परिवार में सफलता के लिए सबसे अधिक संघर्ष ही उनको करना पड़ा है!

2004 में अटल बिहारी वाजपेयी को हरा दिया था!

युवा जोश और नयी सोच के साथ राहुल गांधी पहली बार राजनीती के मैदान में उतरे! किसान आंदोलन और मजदूर आंदोलन में रोड़ पे उतरे! हजारों किलोमीटर पैदल य़ात्रायें की और कामयाब भी हुए! सफलता का ये सिलसिला 2014 तक जारी रहा!

2014 में नरेंद्र मोदी की हवा ने राहुल को हलका कर दिया!

Advertisement

2014 के चुनाव से पहले भाजपा ने मोदी को अपना प्रधानमंत्री पद का उम्मीदबार बनाया और उनकी हिन्दुत्व वादी छवि को जमकर भुनाया!

फिर शुरू हुआ IT Cell का खेल

भाजपा की IT Cell लगातार राहुल गांधी की छवि खराब करने में लगी है! कभी उनके भाषण का एक हिस्सा तो कभी किसी वीडियो को एडिट करके लगातार उनको निशाने पर लिया जाता रहा है! उनको हाशिये पर धकेलने का हरसंभव प्रयास किया जाता रहा है!

लेकिन कुछ बात है की हस्ती मिटती नहीं

तमाम छींटाकशी और उपहास के वावजूद राहुल अपने आप को साबित करते रहे हैं! पिछले 4 बार से लोकसभा का हिस्सा राहुल कांग्रेस का अहम हिस्सा हैं!

अगर आपने अभी तक हमारा फेसबुक पेज Duniya ka Mood लाइक नहीं किया है, कृपा अभी लाइक करें! अपने दोस्तों से भी करवायें और हमारा उत्साह बढ़ाते रहें!

Mohit Raghav
Mohit Raghavhttps://www.duniyakamood.com
दुनिया का मूड के कंटेंट हेड मोहित राघव को वीडियो एवं लिखित कंटेंट में महारथ हासिल है, अपने जुदा अंदाज के लिए जाने जाने वाले मोहित स्पोर्ट्स एवं पॉलिटिक्स में ज्यादा रुचि रखते हैं, डिजिटल मार्केटिंग में खासा अनुभव रखने वाले मोहित कंप्यूटर एप्लीकेशंस में मास्टर्स की डिग्री हासिल किए हुए हैं

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles