17.8 C
Delhi
रविवार, मार्च 3, 2024
Recommended By- BEdigitech

मच्छरों पर रिसर्च: आखिर कैसे 10 मीटर दूर से इंसानों को ढूंढ लेते हैं नर मच्छर, इंसानों का खून नहीं चूसते फिर भी क्यों ईद-गिर्द मंडराते है!

नई दिल्ली: यह बात तो हम सभी जानते हैं कि नर मच्छर इंसान का खून नहीं पीते लेकिन फिर भी ये हमारे शरीर के आसपास भनभनाते है। इंसान का खून चूसकर संक्रमित करने का काम मादा मच्छर करती है। नई रिसर्च कहती है, नर मच्छर इंसानों की ओर आकर्षित होते हैं, इसलिए उनके इर्द-गिर्द मंडराते हैं।

10 मीटर दूर से ही इंसान ढूंढ लेते हैं
वैज्ञानिकों का कहना है, मच्छर करीब 10 मीटर की दूरी से ही इंसान को ढूंढ लेते हैं। इसकी वजह है कार्बन-डाई-ऑक्साइड यानी CO2 है। इंसान ऑक्सीजन को ग्रहण करता है और कार्बन-डाई-ऑक्साइड को छोड़ता है। मच्छर इसी CO2 का सोर्स ढूंढते हुए कुछ ही सेकंड के अंदर इंसान तक पहुंच जाते हैं और काटना शुरू कर देते हैं। हालांकि, इंसान को काटने का का काम मादा मच्छर ही करती है। नर मच्छर अपनी भूख मिटाने के लिए फूलों के रस पर निर्भर रहते हैं।

परेशान करने के मामले में मादा से कम नहीं नर मच्छर
रिसर्च के मुताबिक, नर मच्छर भले ही इंसान का खून नहीं चूसते लेकिन परेशान करने के मामले में यह मादा मच्छर से कम नहीं हैं। जर्नल ऑफ मेडिकल एंटोमोलॉजी में पब्लिश रिसर्च के मुताबिक, अब तक माना जाता था कि नर मच्छर इंसान के इर्द-गिर्द नहीं घूमते लेकिन ऐसा नहीं है। हालिया रिसर्च में यह साबित भी हुआ है।

वैज्ञानिकों का कहना है, नर मच्छर भी इंसान के आसापास मंडराते हैं, यह पता लगाने के लिए एडीज इजिप्टी प्रजाति पर प्रयोग किया। एक यार्ड में इस प्रजाति के सिर्फ नर मच्छरों को छोड़ा गया। कैमरे की मदद से इन पर नजर रखी गई। रिसर्च के दौरान साबित हुआ कि ये इंसान की तरफ आकर्षित होते हैं। वहीं, मादा मच्छर इंसान का खून चूसने के बाद उड़ जाती है।

Advertisement

रिसर्च कहती है, नर मच्छर इंसान के आसपास देर तक मंडराते हैं और बहुत कम ही कहीं पर बैठते हैं।

जब नर मच्छर खून चूसते ही नहीं तो इंसानों के पास क्यों जाते हैं। इस सवाल के जवाब में वैज्ञानिकों का कहना है, इसके पीछे मादा मच्छरों को ढूंढना एक वजह हो सकती है। आमतौर पर मादा मच्छर खून चूसने के लिए इंसानों के इर्द-गिर्द मंडराती रहती है, इसलिए नर मच्छर प्रजनन के लिए उसी जगह पर घूमते रहते हैं।

हालांकि वैज्ञानिकों का कहना है, इसकी और सटीक वजह का पता लगाने के लिए अभी और रिसर्च करने की जरूरत है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles