fbpx

क्या आप जानते हैं Sidhu Moosewala का गाना क्यों किया गया डिलीट, आइए इसके बारे में यहां जानें

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

पंजाबी सिंगर Sidhu Moosewala भले ही अब हमारे साथ नहीं हैं, लेकिन उनके गाने हमेशा अमर रहेंगा। हाल ही में उनकी टीम ने उनका एक नया गाना SYL रिलीज़ किया था। इस गाने की शूटिंग उनकी हत्या से पहले ही हो गई थी, लेकिन इसे अब रिलीज किया गया। 29 मई को सिंगर की दिन दहाड़े हत्या कर दी गई थी, जिसके बाद से पूरा देश निराश हो गया। सिद्धू मूसेवाला के नए गाने का नाम SYL है, जो उनके निधन के बाद रिलीज हुआ। इस गाने को Youtube पर रिलीज़ किया गया था। रिलीज़ के बाद से ही यह गाना तेजी से वायरल होने लगा और तेजी से लोग इसे सुनने लगे और शेयर भी करने लगे। सोशल मीडिया पर आते ही यह गाना छा गया। साथ ही इस गाने की वजह से विवाद भी खड़ा हो गया, जिसके कारण यूट्यूब की तरफ से चंद ही घंटों में इस गाने को डिलीट भी कर दिया गया।

सिद्धू मूसेवाला का यह गाना छह मिनट का था और महज दो घंटे में 22 लाख लोगों ने देखा था। सिंगर ने अपने आखिरी गाने के जरिए पंजाब और हरियाणा में चल रहे एसवाईएल के मुद्दे को उठाया। गाने में सिद्धू ने कृषि कानूनों को लेकर शुरू हुए किसान आंदोलन और लाल किले का भी जिक्र किया है। साथ ही गाने में आम आदमी पार्टी के हरियाणा प्रभारी सुशील गुप्ता का बयान भी मौजूद था, जिसमें उन्होंने हरियाणा में सरकार बनने पर राज्य को एसवाईएल का पानी दिलाने की बात की थी। छह मिनट के इस गाने पर कुछ ही समय में 3.14 लाख लोगों ने लाइक किया और दो लाख 52 हजार लोगों ने कमेंट किया।

यही कारण है कि उनके इस गाने को उनके आधिकारिक यूट्यूब अकाउंट से हटा दिया गया है। सिद्धू मूसेवाला के इस गाने पर अलग-अलग तरह की प्रतिक्रिया भी सामने आई है। हरियाणवी कलाकार गजेंद्र फौगाट ने कहा यह बदले में एक नया गाना बनाने का एलान किया है, जिसके जरिए वह हरियाणा की तरफ से अपना जवाब देंगे। उन्होंने ये भी कहा है कि सिद्धू के परिजनों को यह गाना रिलीज नहीं करना चाहिए था। दूसरी तरफ अंतरराष्ट्रीय बॉक्सर विजेन्द्र सिंह का कहना है कि कंफ्यूजन की वजह से लोग गाने के बोल सही तरह से समझ नहीं पा रहे हैं। उनका मानना है कि जिन लोगों को किसानों में आतंकवाद दिखता है उन्हीं लोगों को गाने से जलन हो रही है।

ये भी पढ़े बरमूडा ट्राएंगल से उठा पर्दा, ऑस्‍ट्रेलियाई वैज्ञानिक का दावा कही जाने वाली बातें सच नहीं!

Advertisement

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article