17.8 C
Delhi
रविवार, मार्च 3, 2024
Recommended By- BEdigitech

आखिर क्यों महिलाओं को हर महीने होता है मासिक धर्म, क्या है इसके पीछे की कहानी ?

मासिक धर्म हर एक महिला को होता है और यह महिलाओं के लिए अच्छे स्वास्थय की निशानी होती है लेकिन आज भी लोग इस विषय पर बात करने से कतराते है और कई लोग तो इस दौरान महिलाओं को अछूता ही मान लेते है।

इसके अलावा कई लोग इस दौरान महिलाओं के साथ ऐसा व्यवहार करते है मानों उन्होंने कोई पाप कर दिया हो जबकि इस दौरान महिलाओं को सबसे अधिक देखभाल की जरूरत होती है लेकिन इन सबके बीच क्या आपके दिमाग में कभी यह सवाल आया कि आखिर महिलाओं को मासिक धर्म क्यों आते है।

या यू कहें कि इस चक्र की शुरूआत कब और कैसे हुई। तो आज आपको आपके इस सवाल का जवाब भी हमारी पोस्ट को पढ़ कर मिल जाएगा। तो आइए अब जान लेते है कि मासिक धर्म के पीछे की कहानी क्या है और महिलाओं को यह हर महीने क्यों झेलने पड़ते है।

महिलाओं को मिला था मासिक धर्म का श्राप ?

Advertisement

पोराणिक कथाओं में ऐसा कहा जाता है कि महिलाओं को एक श्राप दिया गया था जिसका नतीजा ही यह मासिक धर्म है लेकिन यह श्राप महिलाओं को उनकी गलती की वजह से नहीं बल्कि किसी अन्य व्यक्ति की गलती से मिला था। जिसका आज तक महिलाएं प्रायश्चित कर रही है।

क्या है कहानी ?

अगर हिंदू धर्म ग्रंथों की मानी जाए तो महिलाओं के इस मासिक धर्म की वजह देवराज इंद्र है। इंद्र से जुड़ी हर एक कहानी में बताया गया है कि इंद्र स्वंय मुसीबतों को दावत देते थे और फिर उन मुसीबतों से छुटकारा पाने के लिए त्रिदेवों से मदद मांगने चले जाया करते थे।

ब्रह्मदेव से मांगी मदद ?

इसी दौरान इंद्र की एक गलती की वजह से महिलाओं को यह मासिक धर्म का श्राप मिला था। कथा की माने तो एक बार गुरु बृह्स्पति देवराज इंद्र पर किसी बात को लेकर क्रोधित हो गए थे। जिसके बाद इंद्र उनके क्रोध से बचने के लिए ब्रह्मदेव के पास पहुंचे और उनसे मदद मांगने लगे।

सिद्ध पुरुष की सेवा ?

इस दौरान ब्रह्मदेव ने इंद्र को सलाह दी कि वह जाए और किसी सिद्ध पुरुष की सेवा करें। ब्रह्मदेव की इस सलाह पर इंद्र ने एक सिद्ध महर्षि की सेवा करनी शुरु कर दी, लेकिन वह यह नहीं जान पाए कि जिस सिद्ध पुरुष की वह सेवा कर रहे है वह राक्षसी प्रवृत्ति का था।

क्योंकि उसकी माता एक राक्षसी थी, इसके बाद इंद्र जो भी हवन सामग्री उस सिद्ध पुरुष को चढ़ाते वो सामग्री वह ले जाकर राक्षसों को दे देता। जिसका नतीजा यह निकला की राक्षसों की ताकत और अधिक बढ़ने लगी।

ब्राह्मण हत्या का पाप ?

लेकिन जब इंद्र को इस बात का पता चला तो इंद्र ने क्रोध में आकर उस सिद्ध पुरुष का वध कर दिया। अब भले ही वह सिद्ध पुरुष राक्षसी प्रवृति का था लेकिन था तो ब्राह्मण ही जिसकी वजह से इंद्र पर ब्राह्मण हत्या का पाप लग गया।

भगवान विष्णु जी की सलाह ?

इसके बाद इस पाप से छुटकारा पाने के लिए इंद्र ने सालों तक तपस्या की लेकिन कोई भी उपाय उनके काम ना आ सका इसके बाद इस पाप से छुटकारा पाने के लिए इंद्र भगवान विष्णु जी के पास पहुंचे जहां विष्णु जी ने इंद्र को सलाह दी कि उनका पाप तभी समाप्त हो सकता है जब वह अपने पाप को 4 हिस्सों में बांट दें।

पाप का बंटवारा ?

इसके बाद क्या था इंद्र निकल गए अपने पाप को 4 हिस्सों में बांटने के लिए जिसमें से पहला हिस्सा इंद्र ने पेड़ को दिया और साथ में यह वरदान दिया कि पेड़ मरेंगे तो लेकिन उनके पास एक ताकत होगी कि वह पुनः अपने आप जीवित हो पाएंगे।

इसके बाद दूसरा हिस्सा इंद्र ने पानी को दिया और साथ में यह वरदान दिया कि पानी हर एक चीज को पवित्र कर पाएंगा फिर तीसरा हिस्सा भूमि को दिया और साथ में यह वरदान दिया कि भूमि अपनी चोटों को स्वंय ही भर पाएगी।

महिलाओं को श्राप के साथ क्या वरदान मिला ?

अंत में चौथा हिस्सा इंद्र ने महिलाओं को दिया जिसका नतीजा यह मासिक धर्म है लेकिन साथ ही महिलाओं को भी इंद्र ने वरदान दिया और यह वरदान था कि संभोग के दौरान महिलाएं पुरुषों की तुलना में अधिक काम का आनंद ले पाएंगी और इंद्र के इसी ब्राह्मण हत्या का पाप आज तक महिलाएं हर महीने झेलती आ रही है।

Disclaimer

हमारा प्रयास रहता है कि हम आपके लिए एक दम सटीक जानकारी लेकर आए और इसलिए हम तथ्यों और विशेषज्ञों के द्वारा बताई गई ही जानकारी आपके लिए लेकर आते है। हम सभी का शरीर अलग-अलग तरीके का है। इसलिए इसे भी नकारा नहीं जा सकता कि हर टिप्स आपके शरीर पर एक ही तरह से काम करेगी। इसलिए किसी भी टिप को अपनाने से पहले आप अपने डॉक्टर या फिर किसी विशेषज्ञ की राय जरूर लें। हमारा काम आपके लिए होम रेमेडी और फिटनेस टिप लेकर आना है लेकिन उन्हें ट्राई करने से पहले आपको भी उसकी पूरी पड़ताल करनी चाहिए और तभी इन टिप्स को इस्तेमाल में लाना चाहिए।

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles