22.1 C
Delhi
मंगलवार, दिसम्बर 6, 2022

भारतीय टीम के दो दिग्गज खिलाड़ी, जिनकी कप्तानी में भारत ने रचा इतिहास

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में टीम इंडिया ने पहली बार पूर्व दिग्गज कप्तान कपिल देव की कप्तानी में, 1983 में वर्ल्ड कप जीता था। इसके 28 साल के लंबे इंतज़ार के बाद, साल 2011 में भारत ने एक बार फिर महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में वर्ल्ड कप अपने नाम किया। आज जब इन दोनों कप्तानों को साथ में देखते हैं तो पुरानी यादें ताज़ा हो जाती हैं; और सभी भारतीयों का सीना गर्व से चौड़ा हो जाता है।

धोनी का वो विनिंग सिक्स याद आ जाता है, जिसपर कुछ देर के लिए हाथ जोड़कर, दांतो तले अपने होठों को दबाकर, पूरी दुनिया की नज़र टिक गई थी। धोनी की मासूम आंखें याद आ जाती हैं जो हेलिकॉप्टर शॉट मारने के बाद बस उसी गेंद को देख रही थीं और कह रही थीं, ‘ये गेंद दूर तक जानी चाहिए’। कपिल देव का वो मैच याद आ जाता है, जिसने पूरे भारत को एक नया सपना दिया था, कि ‘एक बार और भारत आना चाहिए वर्ल्ड कप’। 1983 में मैदान पर मनाया हुआ वो जश्न याद आ जाता है, जिसने सबकी आंखें नम की थीं। 2011 के वर्ल्ड कप के बाद का वो सेलीब्रेशन बार-बार मनाने को दिल करता है।

आज फिर दोनों कप्तानों की तस्वीर साथ में देखते ही वो सारी पुरानी यादें ताज़ा हो गईं। शायद इसीलिए कहते हैं कि क्रिकेट सिर्फ़ एक खेल नहीं है, एक इमोशन है, लाखों दिलों की धड़कन है।

ये भी पढ़े शुक्रिया झूलन गोस्वामी : झूलन गोस्वामी का क्रिकेट करियर हुआ खत्म, जाने इनके रिकॉर्ड के बारे में।

ये भी पढ़े 19 सितंबर साल 2007 वो दिन जब युवराज सिंह ने स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर की हर एक बोल पर जड़ें थे छक्के, जानिए क्या…

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles