20.1 C
Delhi
मंगलवार, फ़रवरी 7, 2023

पीरियड्स के दर्द से छुटकारा पाने के लिए शिल्पा शेट्टी के बताए ये 3 योगासन करें

महिलाओं को हर महीने पीरियड्स होना उनके अच्छे स्वास्थय की तरफ इशारा होता है। लेकिन इस दौरान महिलाओं को कई समस्याओं का भी सामना करना पड़ता है। पीरियड्स में चिड़चिड़ेपन, पेट दर्द और क्रैंप्स इतने ज्यादा दर्दनाक होते हैं कि उसे सहना मुश्किल हो जाता है। पीरियड्स में ऐंठन एक ऐसी चीज है जिसे अक्सर महिलाओं को झेलना पड़ता है, जो काफी तेज भी हो सकता है। कई महिलाएं इससे छुटकारा पाने के लिए दवाइयां खाती हैं, लेकिन ये सेहत के लिए नुकसानदायक होती है, इसलिए दवाइयों से दूर रहना ज्यादा बहतर होता है। पीरियड्स के दर्द से बिना दवा खाए भी राहत मिल सकती है। इसके लिए कई सारे योग हैं। आप भी अगर हर महीने पीरियड्स से होने वाले दर्द से छुटकारा पाना चाहती हैं तो बॉलीवुड की फिटनेस क्वीन शिल्पा शेट्टी ने से जानें इसके आसान उपाय। इन उपायों को अपनाकर फर्क महसूस होता है। शिल्पा शेट्टी ने एक वीडियो शेयर करते हुए कुछ आसान से योगासन बताए हैं, जिन्हें ट्राई करके आपको पीरियड्स के दर्द से राहत मिल सकती है। शिल्पा शेट्टी काफी फिट हैं, वो अक्सर ही फैंस के साथ हेल्दी लाइफस्टाइल के टिप्स शेयर करती रहती हैं। एक्ट्रेस अक्सर ही अपने फिटनेस वीडियोज से फैंस को इंस्पायर करती हैं। यहां जानें पीरियड्स के खतरनाक दर्द से राहत पाने के आसान उपाय।

उनके नए क्लिप में 3 आसान योगासन हैं जो पीरियड्स के दर्द, पीसीओडी से संबंधित समस्याओं और शरीर में हार्मोन को संतुलित करने में फायदेमंद हैं। इसमें चाइल्ड पोज़ या बालासन, लोटस पोज विथ राइज़्ड आर्म्स वेरिएशन और स्टाफ पोज या दंडासन शामिल है। शिल्पा शेट्टी ने वीडियो के कैप्शन में लिखा- मासिक धर्म के दर्द को हर महीने कई सालों तक सहना आसान बात नहीं है. खासकर जब आपके पास कई सारी जिम्मेदारियां होती हैं। शिल्पा ने आगे लिखा- लेकिन रेगुलरली खुद को कुछ समय देने और लगातार योग करने से दर्द से राहत पाई जा सकती है और इससे आपकी मंथली साइकिल भी नॉर्मल रहती है।

योग करने का तरीका

बालासन

इसके लिए सबसे पहले वज्रासन मे बैठ जाएं अपनी रीढ़ को सीधा रखे। साँस लेते हुए अपने दोनों हाथो को ऊपर ले जाये और साँस छोड़ते हुए अपनी कमर के ऊपरी भाग को आगे झुकाएं साथ ही दोनों हाथो को भी । ध्यान रखें की इसमें हाथो को सीधा रखना है और सिर को जमीन पर लगये। 30 सेकंड से लेकर कुछ मिनट तक मुद्रा मे रहे। फिर वापिस वज्रासन मुद्रा मे आए ।

बालासन के फायदे

  • चाइल्ड पोज धीरे से रीढ़, थाइज, हिप्‍स और टखनों को फैलाता है।
  • यह आसन मन को शांत करता है।
  • चिंता और थकान को कम करता है।
  • सिर में ब्‍लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है।
  • यह हमारे पोश्चर को भी ठीक करता है।

कमल पोज

इसके लिए पीठ के बल सीधा बैठकर और अपने हाथों को फर्श के समानांतर उठाकर, उभरे हुए आर्म्स वेरिएशन के साथ लोटस पोज करें।

कमल पोज के फायदे

लोटस पोज हिप्‍स को खोलता है और रीढ़ को सीधा रखता है।

दंडासन

इसको करने के लिए दोनो पैर एकदम सीधे करके ज़मीन पर बैठ जायें। पैरो की उंगलियो को अंदर की और मौड़ने की कोशिश करे और तलवो को बाहर की तरफ करें। हाथों को ज़मीन पर टिका लें, उन्हे बिल्कुल सीधा रखें। हथेलियाँ कूल्हों के बगल में होनी चाहिए और उंगलियाँ सामने को रखें। हल्का सा हाथों से ज़मीन को दबाते हुए रीढ़ की हड्डी को लंबा और सीधा करने की कोशिश करें। सिर को नीचे की तरफ झुका लें और दृष्टि को अपनी नाक पर केंद्रित करें।

दंडासन के फायदे

  • यह आसन मुद्रा में सुधार करने में मदद करता है।
  • मसल्‍स को मजबूत करता है।
  • ब्रेन के सेल्‍स को शांत करने में मदद करता है।

इन आसनों के पीरियड्स में फायदे

  • पीरियड्स में ऐंठन और दर्द को कम करता है।
  • अनियमित पीरियड्स को दूर करने में मदद करता है।
  • PCOD और PCOS के लिए फायदेमंद।
  • तनाव कम करता है।

Disclaimer

हमारा प्रयास रहता है कि हम आपके लिए एक दम सटीक जानकारी लेकर आए और इसलिए हम तथ्यों और विशेषज्ञों के द्वारा बताई गई ही जानकारी आपके लिए लेकर आते है। हम सभी का शरीर अलग-अलग तरीके का है। इसलिए इसे भी नकारा नहीं जा सकता कि हर टिप्स आपके शरीर पर एक ही तरह से काम करेगी। इसलिए किसी भी टिप को अपनाने से पहले आप अपने डॉक्टर या फिर किसी विशेषज्ञ की राय जरूर लें। हमारा काम आपके लिए होम रेमेडी और फिटनेस टिप लेकर आना है लेकिन उन्हें ट्राई करने से पहले आपको भी उसकी पूरी पड़ताल करनी चाहिए और तभी इन टिप्स को इस्तेमाल में लाना चाहिए।

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles