33.1 C
Delhi
शुक्रवार, जुलाई 19, 2024
Recommended By- BEdigitech

Northeast Assembly Election Results 2023: जानिए किसने मारी बाजी और कौन रहा पीछे ?

त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड के चुनावों के नतीजे आखिरकार आ ही गए और साल 2023 की शुरूआत ही भाजपा के लिए जीत का शंखनाद लेकर आई है क्योंकि Northeast के तीनों राज्यों में भाजपा सरकार बनाने जा रही है।

विपक्ष का मानना था कि भाजपा ये चुनाव हार जाएगी लेकिन अब भाजपा की सरकार बनने के बाद विपक्ष में दुख के बादल पसरे हुए हैं। बता दें कि तीनों राज्यों में बीजेपी अपने सहयोगी दलों के साथ सरकार बनाने जा रही है।

भाजपा का कहना है कि ये होली की शुभ शुरूआत है क्योंकि होली से पहले ही पूर्वोत्तर भगवा हो चुका है। इससे पहले असम, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर में भी भाजपा की सरकार थी और इन तीन राज्यों में भाजपा की जीत से पूर्वोत्तर के 8 राज्यों में से सात में बीजेपी ने जीत का परचम लहरा दिया है केवल मिजोरम पूर्वोतर का ऐसा राज्य है जहां एमएनएफ की सरकार है।

Table of Contents

Advertisement

Northeast Assembly Election Results 2023

कैसे रहे नतीजे ?

Northeast Assembly Election Results 2023

ये भी पढ़े 2 मार्च को आने वाला है Assembly Elections 2023 का रिजल्ट, इससे पहले डाल लिजिए नगालैंड-त्रिपुरा-मेघालय चुनाव नतीजों के एग्जिट पोल पर नजर ?

अगर नतीजों की बात करें तो त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड में से दो राज्यों में तो बीजेपी को स्पष्ट जनादेश मिला लेकिन मेघालय में त्रिशंकु विधानसभा होने से वहां भाजपा का पेंच फंस गया परंतु अब बताया जा रहा है कि वहां के मुख्यमंत्री संगमा से गृह मंत्री अमित शाह की बात हो गई है और मेघालय में भी भाजपा का गठबंधन तय ही है।

बता दें कि मेघालय में एनपीपी के साथ बीजेपी गठबंधन करते हुए सरकार बनाने जा रही है। अगर नतीजों पर नजर डाली जाए तो त्रिपुरा में बीजेपी को 33, लेफ्ट-कांग्रेस को 14, टीएमपी को 13 सीटें मिली, जबकि नगालैंड में एनडीपीपी और बीजेपी गठबंधन को 37 सीटें मिली हैं, यानी कि पूर्ण बहुमत अभी भी बीजेपी के पास ही है।

वहीं कांग्रेस का खाता नहीं खुल पाया, अगर बात की जाए एनपीएफ की तो उसे मात्र 2 सीटें मिली हैं और अन्य के खाते में 21 सीटें गई हैं। मेघालय में त्रिशंकु विधानसभा बनी है, जिसमें एनपीपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, यहां उसके खाते में 26 सीटें आई है, वहीं बीजेपी को यहां केवल 3 सीट ही मिली। लेकिन कांग्रेस ने यहां बीजेपी से आगे निकलते हुए पांच सीटें अपने नाम करी परंतु कांग्रेस की सरकार यहां भी नहीं बना पाई, अगर अन्य की बात की जाए तो उनके खाते में 25 सीटें आई हैं।

कभी बीजेपी (BJP) पूर्वोतर में जीतने के लिए करती थी संघर्ष ?

आज भले ही नतीजे बीजेपी के पक्ष में है और 8 राज्यों में से 7 राज्यों में भाजपा की सरकार बन रही है लेकिन साल 2014 से पहले ऐसा नहीं था। उस समय पूर्वोतर में केवल कांग्रेस और कुछ क्षेत्रीय दलों का ही दबदबा हुआ करता था।

यहां की जनता बीजेपी को हिंदी भाषी मानती थी और कोई बीजेपी को सपोर्ट नहीं करता था केवल साल 2003 में ही भाजपा को अरुणाचल प्रदेश में सफलता मिली थी और वो भी इसलिए क्योंकि उस समय कांग्रेस के एक दिग्गज नेता ने पार्टी के अंदर बगावत शुरू कर दी थी।

लेकिन जैसे ही 2014 आया और बीजेपी की सरकार बनी तो उसके बाद तो नतीजे आज सभी के सामने है, आज पूर्वोतर के 8 में से 7 राज्यों में भाजपा जीत का ताज पहने हुए बैठी है।

ये भी पढ़े Land For Jobs Scam के तहत लालू यादव समेत पूरे परिवार और कुछ लोगों को भेजा गया समन, जानिए क्या है पूरा मामला ?

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles