24.1 C
Delhi
शनिवार, दिसम्बर 10, 2022

रक्षाबंधन पर बहने भूले से भी ना करें ये गलतियां, बांधने से बचें इस प्रकार की राखियां!

हमारे भारत देश हर वर्ष सावन के महीने में पूर्णिमा के दिन भाई-बहन के अटूट प्रेम के प्रति रक्षाबंधन का त्यौहार बनाया जाता है। इस वर्ष रक्षाबंधन 11 अगस्त 2022 को मानाया जाएगा। इस दिन सभी बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर उनकी लंबी उम्र की कामना करती है। वास्तु शास्त्र में राखी को लेकर बहुत से जरूरी बातें बताई गई है जिनका ध्यान रखना बेहद जरूरी है। बाजार में बहुत तरह की विभिन्न विभिन्न राखियां मिलने लगी है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताएंगे कि बहन को भाई के लिए राखी खरीद के समय या फिर राखी बांधते समय किन किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

Table of Contents

इस प्रकार की राखी न खरीदें

अक्सर बाजार में जाने पर हमारे सामने विभिन्न विभिन्न तरह की राखी मौजूद होती है, परंतु हमें राखी खरीदतें समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि उसमें किसी भी तरह का अशुभ प्रतीक चिन्ह न हों। इस तरह की राखी बांधने से शुभ की जगह अशुभ फल प्राप्त होने लगते है।

भगवान की तस्वीर वाली राखी न लें

राखी खरीदते समय ध्यान रहें कभी भी उस राखी को ना खरीदें जिसमें देवी देवताओं की तस्वीर हों। आपके राखी बांधने के बाद वह राखी भाई की कलाई पर बंधी रहती है जो अपवित्र भी हो सकती है या कही हाथ से खुलकर गिर भी सकती है। ऐसा करने पर हम भगवान का अपमान कर रहें होते हैं।

टूटी हुई राखी ना बांधें

राखी खरीदते वक्त विशेष कर ध्यान दें कि ऐसी राखी ना खरीदें जो खंडित हो या टूटी हुई हो। यदि राखी में लगी डोरी भी उससे अलग हो गई है तो ऐसे में उस राखी को ना खरीदें क्योंकि इस प्रकार की राखियां अशुभ मानी जाती है।

राखी में ना हो काले रंग का इस्तेमाल

बहने राखी खरीदते वक्त ध्यान रखें कि कभी भी काले रंग की या फिर जिस राखी में काले रंग का इस्तेमाल हुआ हो उसको भाई की कलाई पर ना बांधे। काला रंग अशुभ रंग माना जाता है, काली राखी बांधने से नकारात्मकता बढ़ती है। इसलिए इस रंग की राखी बिल्कुल भी ना बांधे।

पुरानी रखी को ना फेकें

बहुत से भाई रक्षाबंधन आने तक पुरानी राखी को अपनी कलाई पर बांधे रखते हैं वही बहने नई राखी बांधने से पहले इन्हें खोलकर कूड़ेदान में फेंक देती है। लेकिन बहनों को इस तरह की गलतियां कभी नहीं करनी चाहिए क्योंकि राखी एक शुभ चीज मानी जाती है। आपको बता दें राखी को भी पूजा की सामग्री की तरह किसी नदी या फिर बहते हुए जल में प्रवाहित कर देना चाहिए।

राखी बांधते समय कुछ विशेष बातें

  • बहने जब अपने भाइयों को राखी बांध रही हो तो भाई को जमीन पर ना बैठाए है बल्कि किसी ऊंचे स्थान पर बैठाएं।
  • राखी बांधते समय भाई के सिर में कोई रूमाल या कपड़ा डाल दें।

ये भी पढ़े – सावन पुत्रदा एकादशी को यह खास उपाय करने से सारी इच्छाएं होती है पूर्ण, तिथि और शुभ मुहुर्त जानने के लिए पढ़े पूरी खबर…

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles