32.1 C
Delhi
रविवार, जुलाई 14, 2024
Recommended By- BEdigitech

यह तेल होते है आपके सेहत के लिए हेल्दी, कहीं आप गलत तेल का तो नहीं कर रहे इस्तेमाल ?

जब भारतीय पकवानों की बात की जाती है तो इसे नकारा नहीं जा सकता कि हमारे पकवानों में जायके के लिए तेल और घी का उपयोग बहुत अधिक किया जाता है। हमारे घरों में सालों से घी के अलावा मूंगफली, सोयाबीन, सूरजमुखी, नारियल, सरसों जैसे कई अन्य तेलों का भी इस्तेमाल किया जा रहा है।

हम अपने घरों में अच्छे से अच्छे तेल का इस्तेमाल करते है लेकिन यह हम सभी जानते है कि चाहे जितने भी अच्छे तेल का इस्तेमाल हो पर तेल हमारी सेहत के लिए बिल्कुल भी अच्छा नहीं होता पर आपको यह जानकर हैरानी होगी कि कुछ तेल ऐसे भी होते है।

जो स्वाद के साथ-साथ हमारी सेहत का भी ख्याल रखते है। तो आज की हम अपनी पोस्ट में आपके लिए कुछ ऐसे ही तेलों की जानकारी लेकर आए है जिनका इस्तेमाल आपकी सेहत के लिए हेल्दी हो सकता है। तो आइए जानते है।

ऑलिव ऑयल
अगर आप अपने स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहते है तो ऑलिव ऑयल आपके लिए एक बेस्ट चॉइस हो सकता है क्योंकि इसमें विटामिन-ई मौजूद होता है जिसकी वजह से यह एंटीऑक्सीडेंट के गुण रखता है।

Advertisement

ऑलिव ऑयल में मोनोसैचुरेटेड फैट्स की मात्रा भी अधिक होती है जिससे यह एंटीकैंसर और एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों से युक्त होता है। ऑलिव ऑयल का एक फायदा यह भी होता है कि यह हमारे बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और हमारे दिल की सेहत को अच्छा रखने में मदद करता है।

अलसी का तेल
अलसी का तेल जिसे फ्लेक्ससीड ऑयल भी कहा जाता है। इस तेल का सबसे बड़ा गुण यह है इसमें ओमेगा-3 फैटी एसिड्स अच्छी मात्रा में मौजूद होते है। जो हम अपने शाकाहारी भोजन से ना के बराबर ही ले पाते है।

यह तेल आर्थराइटिस के लक्षणों को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा इसमें ओमेगा-6 फैटी एसिड भी पाए जाते है जो कि हमारे दिल की सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते है।

तिल का तेल
तिल के तेल में एंटीऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में पाए जाते है जो कि न्यूरोलॉजिकल समस्याओं से हमारे शरीर को लड़ने में मदद करते है। इसके अलावा इसके सेवन से ब्लड शुगर भी कंट्रोल में रहता है।

सनफ्लावर ऑयल
हमारे घरों में सालों से सनफ्लावर ऑयल का इस्तेमाल किया जा रहा है। इस तेल में सैचुरेटेड फैट्स की मात्रा कम होती है। इसके अलावा यह तेल हमारे शरीर में ब्लड शुगर, कोलेस्ट्रॉल और मोटापे की समस्या को नियंत्रित करने में भी काफी मददगार साबित होता है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles