17.8 C
Delhi
रविवार, मार्च 3, 2024
Recommended By- BEdigitech

जीवन में चाहते हैं सुख समृद्धि तो तुलसी में जल चढ़ाते समय करें इस मंत्र का जाप, बहुत जल्द दिखेगा बदलाव!

हिंदू धर्म में जितनी मान्यता तुलसी के पौधे को दी जाती है शायद ही इतनी मान्यता किसी और पौधे को दी जाती हो। मान्यता है कि तुलसी के पौधे में भगवानों का वास होता है और इसीलिए इस पौधे की विधि विधान के साथ रोजाना पूजा पाठ की जाती है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक तुलसी के पौधे में मां लक्ष्मी का वास होता है और इस पौधे को जहां भी लगाते हैं वहां सकारात्मक ऊर्जा आने लगती है और घर में सुख शांति व समृद्धि बनी रहती है। वास्तु शास्त्र के अनुसार तुलसी के पौधे की रोजाना पूजा की जानी चाहिए वह इसके पास एक दीपक जलाना चाहिए ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती है और हमेशा ही हमारे घर पर इनकी कृपा बनी रहती है।

• तुलसी में जल देते समय मंत्र

कहा जाता है कि यदि आप इन मंत्रों का जाप कर कर तुलसी जी को जल चढ़ाते हैं तो इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। आपके घर में बहुत जल्द सुख शांति व समृद्धि आने लगती है और आप व आपके परिवार में नए नए तरक्की के राह खुलते रहते हैं‌। वही कहा जाता है कि इस मंत्र के जाप से आप रोगों से भी मुक्ति पा सकते हैं। आइए जानते हैं कौन से हैं वो मंत्र-

  • ‘महाप्रसाद जननी, सर्व सौभाग्यवर्धिनी,
  • आधि व्याधि हरा नित्यं, तुलसी त्वं नमोस्तुते।’

• सही दिशा तुलसी का पौधा रखने की

हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र का महत्व माना जाता है। आपको बता दें वास्तु शास्त्र में हर एक चीज के लिए कि स्थान बताया गया है। खासकर पूजा पाठ से जुड़ी चीजों को लेकर सही दिशा का ज्ञान होना बेहद जरूरी हो जाता है। वास्तु के अनुसार तुलसी के पौधे को पूर्व दिशा में लगाना शुभ माना जाता है मान्यता है इस दिशा में पौधा लगाने से यह पेड़ सदैव हरा भरा रहता है।

ये भी पढ़े – वास्तु शास्त्र: भूले से भी केले के पेड़ के साथ ना करें ये गलतियां, अन्यथा भगवान विष्णु हो जाते हैं नाराज!

Advertisement

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles