fbpx

यूपी विधानसभा चुनाव: भाजपा, निषाद पार्टी और अपना दल ने साथ में चुनाव लड़ने का किया ऐलान, सीटों पर चल रहा विचार

Must read

यूपी चुनाव 2022 की नजदीकी को देखते हुए जहां एक तरफ सभी पार्टियां अपनी-अपनी तैयारियों में जुटी हुई है वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अब अपने पत्ते खोलने शुरू दिए है और इस बार के चुनाव में भाजपा और निषाद पार्टी का गठबंधन देखने को मिलेगा। इस पर खुलासा करते हुए दोनों पार्टियों ने अपने (BJP Nishad Party Alliance) गठबंधन का ऐलान भी कर दिया है।

दरअसल, इसकी जानकारी बीजेपी और निषाद पार्टी की तरफ से प्रेस कॉन्फ्रेंस करके दी गई है। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में बीजेपी प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह सहित निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद भी शामिल थे। इस दौरान यह भी बताया गया कि यूपी चुनाव में अपना दल भी गठबंधन का हिस्सा रहेगा।

बता दें कि, इस प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले जब निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद से पार्टी के भाजपा में विलय होने पर सवाल किया गया था तो उन्होंने इससे साफ इंकार करते हुए कहा था कि वह बीजेपी में विलय नहीं करेंगे और निषाद पार्टी अपने चुनाव चिन्ह पर ही चुनाव लड़ेगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या कहा गया ?

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बीजेपी प्रदेश प्रभारी धर्मेंद्र प्रधान द्वारा कहा गया कि, ‘मैं पिछले 3 दिन से यूपी में हूं, निषाद पार्टी के साथ भाजपा के गठबंधन को और अधिक मजबूती मिलेगी। उन्होंने कहा कि, 2022 का विधानसभा चुनाव हम आपस में मिलकर लड़ने जा रहे है और इस गठबंधन में बीजेपी और निषाद पार्टी के साथ-साथ अपना दल भी शामिल है।’ और हमने इसकी तैयारी भी शुरू कर दी है।

Advertisement

धर्मेंद्र प्रधान ने गठबंधन पर विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि, यूपी चुनाव में भाजपा गठबंधन पीएम मोदी और सीएम योगी के नाम पर लड़ने जा रहा है। ‘जनता अच्छे से जानती है कि पीएम मोदी और सीएम योगी ने देश और प्रदेश के लिए कितना काम किया है, इसलिए हम यूपी चुनाव दोनों सरकारों के काम पर लड़ेंगे।’

भाजपा अन्य दोनों दलों को कितनी सीट देगी ?

प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब धर्मेंद्र प्रधान से निषाद पार्टी और अपना दल के साथ सीटों पर बंटवारे को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि हमारे नेता सीएम योगी हैं और सहयोगी पार्टियों को भी सम्मान जनक सीटें दी जाएंगी।’

यूपी चुनाव में कितना असर डालेगा किसान आंदोलन ?

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान धर्मेंद्र प्रधान ने किसानों के विरोध को लेकर कहा कि, किसानों की नाराजगी एक चर्चा का विषय हो सकता है, लेकिन भाजपा सरकार कृषि क्षेत्र में कई कार्य कर चुकी है और भाजपा सरकार अभी किसानों की आमदनी दोगुनी करने की दिशा में काम कर रही है।

विभिन्न टिप्पणियों को लेकर क्या विचार ?

यूपी चुनाव 2022 से पहले पार्टी को विभिन्न टिप्पणियों का सामना करना पड़ रहा और जब इसको लेकर धर्मेंद्र प्रधान से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि, ‘अब्बाजान, चचाजान पर मत जाइए, विकास के काम में किसी की जाति या धर्म नहीं देखा गया।’ इस दौरान जब धर्मेंद्र प्रधान से विपक्ष द्वारा जातिगत जनगणना पर सरकार को घेरे जाने का सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि, इसके हर कानूनी पहलू पर विचार किया जा रहा है।

बताया जा रहा है कि, इस गठबंधन से पहले निषाद पार्टी और बीजेपी के बीच एक मीटिंग की गई थी, जिसके उपरांत यह फैसला लिया गया है।
यह भी कयास लगाए जा रहे है कि जितिन प्रसाद, संजय निषाद और बेबी रानी मौर्य सहित एक और नाम पर चर्चा चल रही है जिनको MLC बनाया जा सकता है।

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article