fbpx

भारत-पाक के इन बॉर्डर्स पर बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है आज़ादी का महोत्सव, जाने इनके बारे में.

Must read

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

देश को आज़ाद हुए 75 साल होने वाले हैं. साल 1947 के बाद से हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के खास अवसर पर देश के अलग अलग कोने में आज़ादी का महोत्सव मनाया जाता है. आजादी के इस महोत्व पर लोग किसी न किसी ऐतिहासिक जगह घूमने का प्लान ज़रूर बनाते हैं. ऐसे में अगर आप भी 15 अगस्त को किसी ऐतिहासिक जगह घूमने जाना चाहते हैं जहां आप आज़ादी का महोत्सव देख सके तो फिर आप इन जगहों पर जरूर जा सकते हैं.

Table of Contents

भारत पाकिस्तान के इन बॉर्डर पर आज़ादी का जश्न बहुत खूबसूरती से मनाया जाता है.

वाघा बॉर्डर

इनमें सबसे पहला नाम है वाघा बॉर्डर का. 15 अगस्त के दिन वाघा बॉर्डर पर लोग दूर- दूर से भारत की आज़ादी का महोत्सव देखने आते हैं.

15 अगस्त के दिन वाघा बॉर्डर चकचक भरा हुआ रहता है. 15 अगस्त को होने वाली परेड और प्रोग्राम को देखने के लिए केवल भारत पाकिस्तान दोनों तरफ से लोग देखने पहुंचते हैं।

Advertisement

हुसैनीवाला बॉर्डर

पंजाब में मौजूद हुसैनीवाला बॉर्डर पर भी 15 अगस्त के दिन बहुत बड़ा महोत्सव होता है. हुसैनीवाला बॉर्डर भारत-पाक की सीमा के निकट सतलुज नदी के किनारे मौजूद है. नदी के किनारे पाकिस्तान का ‘गंडा सिंह वाला’ नमक गांव है. कहा जाता है कि इसी गांव में भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव का अंतिम संस्कार किया गया था. स्वतंत्रता दिवस के दिन घूमने का प्लान बन रहे हैं तो हुसैनीवाला बॉर्डर जा सकते हैं।

लोंगेवाला बॉर्डर

15 अगस्त को राजस्थान में भारत-पाकिस्तान की सीमा पर मौजूद लोंगेवाला बॉर्डर पर भी खूब प्यार देखने को मिलता है. जैसलमेर में मौजूद यह बॉर्डर 1971 में हुए युद्ध की याद दिलाता है. यहां 15 अगस्त को रिट्रीट समारोह होता है जिसे देखने लोग दूर दूर से आते हैं. इस बॉर्डर के पास तनोट माता मंदिर है, जहां पर्यटक और भक्त दर्शन और घूमने के लिए आते रहते हैं.

मुनाबाव बॉर्डर

राजस्थान में ही मौजूद मुनाबाव बॉर्डर भी 15 अगस्त के दिन जाने के लिए सबसे अच्छी जगह है. आपको बता दें कि यह बॉर्डर राजस्थान के बाड़मेर में है. इस बॉर्डर के बारे में कहा जाता है कि भारत पाकिस्तान के मध्य चलने वाली रेल, थार एक्सप्रेस, मुनाबाव से ही चलती है.

ये भी पढ़े विवादों में फसी Ratna pathak shah, पति की सलामती के लिए व्रत रखने के सवाल पर कही ये बात

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article