11.1 C
Delhi
बुधवार, फ़रवरी 8, 2023

कैम्ब्रिज में भारतीय स्कॉलर Rishi Rajpopat ने पाणिनि के ग्रंथों में 2,500 साल पुरानी संस्कृत एल्गोरिदम की गुत्थी सुलझाई !

कैम्ब्रिज के सेंट जॉन्स कॉलेज में एशियन एंड मिडल ईस्टर्न स्टडीज फैकल्टी में PHD स्कॉलर Rishi Rajpopat ने कमाल कर दिखाया है। उन्होंने संस्कृत व्याकरण की 2,500 साल पुरानी एक समस्या को सुलझा दिया है। ऋषि ने संस्कृत व्याकरण के आचार्य पाणिनी के एक नियम को डीकोड किया है। Paṇini का ग्रंथ Aṣṭādhyāyī में मूल शब्दों से नए शब्द बनाने का नियम है। लेकिन, इस नियम के इस्तेमाल से नया शब्द बनाने में अक्सर दिक्कत होती थी। इसे लेकर कई स्कॉलर्स भी कन्फूजन में थे।

ये भी पढ़े जानिए ईशान शर्मा ने कैसे तय किया जीरो से करोड़पति बनने तक का सफर और कैसे आप भी बन सकते है उनकी तरह एक…

लेकिन, अब 27 वर्षीय छात्र Rishi Rajpopat ने इस सारी कन्फूजन को दूर करते हुए अपने डिसर्टेशन में तर्क दिया है कि शब्द बनाने के इस मेटारूल को गलत समझा गया था। पाणिनि का मतलब किसी शब्द के बाएं और दाएं पक्ष पर लागू होने वाले नियमों से था और वह चाहते थे कि पाठक दाईं ओर लागू होने वाले नियम को चुने।
Rajpopat ने कहा कि “9 महीने तक ग्रामर की इस समस्या को हल करने की कोशिश के बाद, भी कुछ हासिल नहीं हुआ। फिर मैंने एक महीने के लिए किताबें बंद कर दीं और बस गर्मियों के मज़े लिए। तैराकी, साइकिल चलाना, खाना बनाना, प्रार्थना और ध्यान करने का काम किया। फिर एक दिन वापस किताबों के पन्ने पलटाए और फिर एक पैटर्न आने लगा। इसके बाद मैंने अपना डिसर्टेशन पूरा किया।”

ये भी पढ़े 3 सीक्रेट जिसके द्वारा अंकित सिंगला कमाते है महीने के 50 हजार डॉलर।

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles