32.1 C
Delhi
मंगलवार, मई 21, 2024
Recommended By- BEdigitech

भारत में जागी उम्मीद की किरण, नामीबिया से आए एक चीता ने दिया चार शावकों को जन्म ?

साल 1947 में भारत की धरती पर चीतों का अस्तित्व समाप्त हो गया था और उसके बाद कभी भी चीता को भारत में कभी नहीं देखा गया लेकिन हाल ही में भारत सरकार ने चीता की घर वापसी करवाई परंतु नए वातावरण के होने से सभी चिंता में थे कि क्या भारत में चीता फिर से पनप पाएंगे या फिर नहीं।

लेकिन अब इस पर से भी पर्दा उठ चुका है, दरअसल बीती 29 मार्च को ऐसी खबर सामने आई जिसे सुनने के बाद फिर से भारत में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। बता दें कि बीते बुधवार को नामीबिया से भारत लाए गए चीतों में से एक चीते ने चार शावकों को जन्म दिया, जिसकी जानकारी केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव ने दी।

अगर बात करें भारत में चीता की विलुप्ती की तो इसे आखिरी बार छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में देखा गया था लेकिन उस समय वो आखिरी चीता मृत पाया गया था और साल 1952 में ये घोषित कर दिया गया कि भारत की धरती पर चीता विलुप्त हो चुका है।

चीता के शावकों को जन्म

ये भी पढ़े अपनी गिरफ्तारी के लिए अमृतपाल सिंह ने रखी 3 मांग, जानिए क्या है उसकी मांग ?

बता दें कि चीता के शावकों को जन्म देने के बाद केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने कहा कि इस कदम से अतीत में की गई गलतियों को सुधारा जा सकता है, मैं इसके लिए ‘प्रोजेक्ट चीता’ की पूरी टीम को बधाई देता हूँ।

Advertisement

अगर इन चीतों की घर वापसी पर बात करें तो इन्हें भारत के प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के 72वें जन्मदिन पर भारत लाया गया था, इसमें 5 मादा चीता थी और 3 नर चीता थे और इन्हें संरक्षण देने के लिए मध्य प्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में छोड़ा गया था।

इस खुशखबरी के आने से पहले एक दुखद खबर भी आई थी जिसने सभी को चिंता में डाल दिया था, दरअसल बीते 27 मार्च को लाए गए चीता में से साशा नामक एक मादा चीता की गुर्दे की बीमारी के चलते मौत हो गई थी और इसकी जानकारी मध्य प्रदेश के वन और वन्यजीवन अधिकारियों ने दी थी।

इससे पहले भारत में चीतों की तादाद बढ़ाने के लिए बीती 18 फरवरी को 12 अन्य चीते भी लाए गए थे और इन्हें दक्षिण अफ्रीका से मंगवाया गया था और इन्हें भी मध्य प्रदेश के कूनो राष्ट्रीय उद्यान में ही छोड़ा गया था।

हालांकि चाहे कुछ भी हो लेकिन इन शावकों के जन्म के बाद ये तो साबित हो गया है कि भारत की धरती पर फिर से चीता को आसानी से देखा जा सकेगा।

ये भी पढ़े अमेरिका के स्कूल में हुए दर्दनाक हमले में 6 लोगों की मौत, जानिए क्या है पूरा माजरा ?

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles