fbpx

Platelet badhane ke upay in hindi प्लेटलेट्स की संख्या हो गई है कम तो इन दवाओं का कर सकते हैं सेवन, जानें इसके लक्षण और किन चीजों का करें सेवन

Must read

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Table of Contents

Platelet badhane ke upay in hindi | प्लेटलेट बढ़ने के उपाय इन हिंदी

प्लेटलेट्स वो ब्लड सेल्स होते हैं जो खून को थक्का बनाने में मदद करता है और खून बहने को रोकते हैं। अगर शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या 10,000 से कम हो जाए तो ब्लीडिंग की आशंका बढ़ जाती है इसलिए प्लेटलेट्स की संख्या को बनाये रखना सेहत के लिए बेहद जरूरी होता है। शरीर में प्लेटलेट्स की कमी होने का मतलब होता है कि अब हमारे शरीर में बीमारियों से लड़ने की ताक़त कम हो रही है। प्लेटलेट्स हमारे बोन मैरो में बनते हैं। बोन मैरो में स्टेम सेल्स होते हैं जो रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स के तौर पर विकसित होते हैं। शरीर में प्लेटलेट्स कम होने की वजह से कई दिक्कतों का सामना करना पड़ जाता है। टलेट्स हमारे शरीर में तब कम होता है जब, दर्द दूर करने की दवाइयां या शराब के नियमित सेवन, डेंगू, मलेरिया चिकुनगुनिया या टाइफाइड जैसे रोग से पीड़ित होते हैं। अगर इनकी संख्या 10,000 से कम हो जाती है, तो व्यक्ति को अलग से प्लेटलेट चढ़ाने की ज़रूरत होती है।

प्लेटलेट्स कम होने के क्या लक्षण होते हैं? Platelet kam hone ke kya Lakshan hai

प्लेटलेट्स की संख्या कम होने के कई लक्षण होते हैं। इनमें से कुछ होते हैं जैसे नाक, मुंह, आंखों, पेशाब या लेट्रिन में खून का आना, पेट में दर्द और उल्टी होना, शरीर पर चकत्ते होना, प्लेटलेट्स का एक लाख से कम होना इसके कुछ शुरूआती लक्षण होते हैं।

प्लेटलेट्स कम होने का कारण

  • दवाओं के सेवन से
  • आनुवंशिक रोगों
  • कुछ प्रकार के कैंसर
  • कीमोथेरेपी ट्रीटमेंट
  • बुखार जैसे डेंगू, मलेरिया व चिकनगुनिया

किन रोगों में प्लेटलेट्स की संख्या कम हो जाती हैं ?

डेंगू, मलेरिया,स्क्रब टाइफस, टायफॉइड जैसे रोगों में और दर्द से छुटकारा पाने वाली दवाओं का नियमित सेवन करने से हमारे शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या कम हो जाती है।

Advertisement

प्लेटलेट्स की कमी से कौन सा रोग होता है?

शरीर में प्लेटलेट्स की कमी होने से कई दिक्कतों का सामना करना पड़ जाता है। कुछ लोगों में प्लेटलेट्स कम होने की वजह से वे थ्रोम्बोसाइटोपेनिया (Thrombocytopenia) नामक बीमारी का शिकार हो जाते हैं।

प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए

इसे बढ़ाने के लिए कई घरेलू नुस्खें भी होते हैं। हमारे घर में कई ऐसी चीजें होती हैं, जिनका सेवन करने से प्लेटलेट्स की संख्या बढ़ जाती है। कुछ विटामिन और खनिजों से भरपूर खाद्य पदार्थ आपके शरीर को प्लेटलेट्स बनाने और बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। इसे बढ़ाने के लिए इन चीजों का जरूर करें सेवन:

  • चुकंदर
  • अनार
  • व्हीटग्रास
  • गिलोय
  • पालक गहरे रंग की पत्तेदार हरी सब्जियां जैसे पालक
  • दाल
  • अंडे
  • चावल
  • ख़मीर
  • ब्रोकोली

इसके अलावा ये चीजें भी हो सकती हैं मददगार

  • प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए कीवी का सेवन करें।
  • गाजर का नियमित सेवन करें।
  • नारियल पानी का सेवन करें।
  • बकरी का दूध भी प्लेटलेट्स बढ़ाने में बहुत लाभकारी होता है।

प्लेटलेट्स कम होने पर क्या नहीं खाना चाहिए

कुछ खाद्य पदार्थ ऐसे होते हैं जो प्लेटलेट काउंट को कम कर सकते हैं।

  • क्वीनीन (टॉनिक वाटर में पाया जाता है)
  • शराब
  • क्रैनबेरी
  • जूस
  • गाय का दूध

प्लेटलेट्स बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा पतंजलि

प्लेटलेट्स की कमी को खत्म करने के लिए खाने की कुछ चीजों के साथ-साथ कुछ दवाओं का भी सेवन कर सकते हैं। इसके लिए सबसे अच्छी पतंजलि की दवाएं हैं। गिलोय का सेवन ऐसे भी किया जाता है। उसी प्रकार इसके लिए सबसे अच्छी दवा है पतंजलि गिलोय घन वटी। इसके अलावा पतंजलि दिव्य गिलोय क्वाथ, पतंजलि दिव्य डेंगुनील वटी, पतंजलि दिव्य अश्वगंधा चूर्ण, पतंजलि दिव्य पुनर्नवा मंडूर, पतंजलि दिव्य गिलोय सत का भी सेवन कर सकते हैं। यह सभी दवाएं आपको किसी भी पतंजलि स्टोर पर आसानी से मिल सकती हैं।

प्लेटलेट बढ़ाने की आयुर्वेदिक दवा

खून में प्लेटलेट्स बढ़ाने की कुछ आयुर्वेदिक दवाएं भी होती हैं। सबसे अच्छी बात यह है कि इन दवाओं का हमारे शरीर में कोई गलत प्रभाव नहीं पड़ता। इनमें से एक दवा है प्लेटवेल कैप्सूल, इसके अलावा ग्रीन गोल्ड कार्कती कैप्सूल, ऐड-प्लेटलेट्स ऐड वेदा, पपाया लीफ एक्सट्रैक्ट 500 एमजी कैप्सूल, कपिवा पपाया + एंटी-ऑक्सीडेंट कैप्सूल 60’s का भी सेवन कर सकते हैं। लेकिन किसी भी दवा का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

ये भी पढ़े ब्लड प्रेशर कम करने का मंत्र, इन चीजों का करें सेवन और इनसे से बनाए दूरी!

ये भी पढ़े – शरीर में हार्मोन इम्बैलेंस के कारण हो सकती हैं ये समस्याएं, डॉक्टर से जरूर करें संपर्क

ये भी पढ़े – weakness dur karne ke upay शरीर की कमजोरी दूर करने के उपाय क्या है व इसे दूर करने के लिए क्या खाना चाहिए

ये भी पढ़े – Khoon Ko Patla Karne Ke Upay खून हो गया है बहुत ज्यादा गाढ़ा तो उसे पतला करने के लिए इन चीजों का करें सेवन, अपनी लाइफ-स्टाइल में करें ये बदलाव

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article