fbpx

Ultracet Tablet uses in Hindi | अल्ट्रासेट टैबलेट का उपयोग, सावधानी और परहेज ?

Must read

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

आज हम आपके लिए अल्ट्रासेट टैबलेट (Ultracet Tablet) से जुड़ी सभी जानकारी लेकर आए है, जहां पर आप जानेंगे कि आखिर अल्ट्रासेट टैबलेट का उपयोग कैसे करना चाहिए और इसका उपयोग करते हुए आपको किन-किन बातों की सावधानी रखनी चाहिए।

क्योंकि अगर किसी दवाई का प्रयोग करते हुए उसकी सावधानियों की जानकारी ना रखी जाए तो वह आपके लिए खतरनाक साबित हो सकती है। इसीलिए आज हम आपके लिए अल्ट्रासेट टैबलेट की सभी जानकारी लेकर आए है।

ताकि आप भी दवाईयों को लेकर जागरूक रहें और अन्य लोगों की भी मदद कर पाएं। साथ ही हम यहां आपको अल्ट्रासेट टैबलेट के नकारात्मक प्रभावों की भी जानकारी देंगे ताकि अगर कभी आप इन्हें महसूस करें।

तो बिना समय गवाएं सही कदम उठा सकें और डॉक्टर को अपनी सही परेशानी बता सकें। इसके अलावा आपका यह भी जानना जरूरी है कि आप कभी भी ऐसे ही किसी भी दवाई का उपयोग ना करें।

Advertisement

क्योंकि ऐसा करना खतरनाक होने के साथ-साथ आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है। तो आइए अब आपको अल्ट्रासेट टैबलेट की विस्तार से जानकारी देते है और आपको अल्ट्रासेट टैबलेट के प्रति जागरूक करते है।

जैसा कि आप जान चुके होंगे कि आज हम आपको अल्ट्रासेट टैबलेट की जानकारी देने वाले है तो शुरू करने से पहले आइए यह जान लेते है कि आखिर अल्ट्रासेट टैबलेट के निर्माता कौन है। तो अल्ट्रासेट टैबलेट को यानसेन फार्मास्युटिकल्स कंपनी बनाती है।

अल्ट्रासेट टैबलेट पैरसैटैमोल/एसिटामिनोफेन (325मि.ग्रा) और ट्रामाडॉल (37.5मि.ग्रा) से निर्मित होती है। जिसे खरीदने के बाद में आपको इस दवा को अपने घर में उस स्थान पर रखना चाहिए जहां का तापमान 30°c से कम हो। यह तो हो गई दवाई के निर्माण की जानकारी आइए अब आपको अल्ट्रासेट टैबलेट की सावधानी, उपयोग के तरीके और इसके साइड इफेक्ट की पूरी जानकारी देते है।

Table of Contents

अल्ट्रासेट टैबलेट का इस्तेमाल क्यों किया जाता है ?

अगर बात करें अल्ट्रासेट टैबलेट कि तो यह एक प्रकार की दर्द निवारक दवाई है। जिसका मुख्य तौर पर इस्तेमाल मांसपेशियों में दर्द, पीठ दर्द, जोड़ों में दर्द, मासिक धर्म में ऐंठन और दांत दर्द के वक्त किया जाता है और इस दवा को भोजन के साथ या फिर भोजन के बिना भी सेवन में लाया जा सकता है।

अल्ट्रासेट टैबलेट की कितनी डोज लें ?

अगर इसकी डोज की बात की जाए तो यह निर्धारित होता है आपकी स्थिति पर जैसे कि आप इसे किस समस्या के लिए इलाज में ले रहे है। इसके अलावा अगर आप अपनी समस्या से छुटकारा पा ले तो भी जब तक डॉक्टर आपको इसके सेवन को रोकने की सलाह ना दें। तब तक आप इसका उपयोग करते रहें।

अल्ट्रासेट टैबलेट के साइड इफेक्ट क्या होते है ?

अगर बात करें अल्ट्रासेट टैबलेट के साइड इफेक्टों की तो इस दवा को लेते वक्त आपको मिचली आना, उल्टी, कब्ज, कमजोरी और मुंह सूखने जैसे कुछ सामान्य साइड इफेक्ट देखने को मिल सकते है। वैसे तो यह साइड इफेक्ट सामान्य है लेकिन अगर आपको लगे कि यह लंबे समय तक आपके भीतर बने हुए है। तो तुरंत डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

किन बीमारियों में ना करें अल्ट्रासेट टैबलेट का उपयोग ?

वैसे तो यह दवा डॉक्टर की सलाह पर ही दी जाती है लेकिन अगर आपको पहले से कोई बीमारी रह चुकी है, इसके अलावा अगर किडनी या फिर लिवर की समस्या हो या आप शराब का सेवन करते हो अन्यथा अगर आप गर्भवती या फिर स्तनपान कराने वाली महिला हो। तो आपको इसके इस्तेमाल से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए वर्ना यह आपकी स्थिति को खराब कर सकता है।

कैसे करें अल्ट्रासेट टैबलेट का सेवन ?

जैसे कि अल्ट्रासेट टैबलेट टैबलेट के रूप में आती है तो आप इस टैबलेट का सेवन सीधा ही करें। इसे कभी भी चबाकर, कुचलकर या फिर तोड़कर इसका सेवन ना करें।

अल्ट्रासेट टैबलेट को लेकर अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल ?

क्या शराब के साथ कर सकते है इसका इस्तेमाल ?

अगर शराब पीते है तो कभी भूलकर भी इस दवा का उपयोग ना करें। वर्ना आपको इससे नुकसान हो सकता है।

क्या गर्भावस्था के समय कर सकते है इसका इस्तेमाल ?

अगर कोई महिला गर्भावस्था में हो तो उसे डॉक्टर की सलाह पर ही इस दवा का सेवन करना चाहिए। क्योंकि गर्भावस्था के वक्त इस दवा के इस्तेमाल को जानने के लिए जब जानवरों पर शोध किया गया तो सभी के शिशु पर इसका हानिकारक प्रभाव दिखा।

इसलिए गर्भावस्था के समय इस दवा के उपयोग की सलाह के लिए मना किया जाता है। लेकिन फिर भी अगर आप इस दवा का सेवन करना चाहती है। तो पहले आपको डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए और फिर तभी इस दवा का सेवन करना चाहिए।

क्या स्तनपान कराने वाली महिलाएं अल्ट्रासेट टैबलेट का उपयोग कर सकती है ?

अगर आप शिशु को स्तनपान कराने वाली महिला है तो आपको इस स्थिति में इस दवा का सेवन भूलकर भी नहीं करना चाहिए। क्योंकि जब जानवरों पर इसका शोध किया गया तो इसके नतीते हानिकारक निकले। इसीलिए बिना डॉक्टर की सलाह के स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस दवा के सेवन से बचना चाहिए।

क्या ड्राइविंग करते हुए अल्ट्रासेट टैबलेट का उपयोग कर सकते है ?

जब अल्ट्रासेट टैबलेट का सेवन किया जाता है तो इससे सुस्ती और आंखों के धुंधलेपन की समस्या हो जाती है। ऐसे वक्त पर ड्राइविंग करना आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है। इसीलिए या तो आप अल्ट्रासेट टैबलेट के बाद ड्राइविंग करने से बचे या फिर अगर कहीं जरूरी जाना हो तो इस दवा का उपयोग ना करें।

क्या अल्ट्रासेट टैबलेट से किडनी और लिवर के मरीजों को होता है कोई नुकसान ?

अगर किसी व्यक्ति को किडनी या फिर लिवर की समस्या हो तो ऐसे व्यक्ति को अल्ट्रासेट टैबलेट के सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि इस दौरान यह दवा आपके लिए घातक साबित हो सकती है। अगर फिर भी आप इस दवा का उपयोग करना चाहते है। तो पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

अगर अल्ट्रासेट टैबलेट की डोज लेना भूल जाएं तो क्या हो सकती है कोई परेशानी ?

अगर डॉक्टर के द्वारा आपको अल्ट्रासेट टैबलेट की डोज बताई गई है और आप किसी कारणवश उस डोज को लेना भूल जाते है। तो आपको दूसरी डोज के 3 घंटे पहले अपनी पहली डोज को ले लेना चाहिए। इसके बाद ही दूसरी डोज लें वर्ना आप इस दवा के लाभ से वंचित रह सकते है।

ये भी पढ़े Fluka 150 Tablet uses in Hindi | फ्लूका 150 टैबलेट के उपयोग व इसके दुष्प्रभाव

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article