15.1 C
Delhi
गुरूवार, दिसम्बर 1, 2022

Black Fungus In Hindi क्या है ब्लैक फंगस, लक्षण इससे बचाव के तरीके और कुछ सावधानियां!

Table of Contents

Black Fungus In Hindi | ब्लैक फंगस बीमारी क्या है और लक्षण और उपाय क्या है

हेलो पाठको, आपका हमारी वेबसाइट duniyakamood पर बहुत बहुत स्वागत है । आज हम इस लेख के माध्यम से बताएँगे black fungus symptoms in hindi , black fungus treatment , black fungus kya hota hai , white fungus symptoms in hindi , फंगस इन हिंदी, ब्लैक फंगस के लक्षण और उपाय, फंगस बीमारी क्या है और भी बहुत सारी जानकारी हैं देने जा रहे हैं इसलिए पूरी जानकारी जानने के लिए हमारे लेख को अंत तक पढ़े ।

फंगस बीमारी क्या है Black fungus beemari kya hai

भारत में ओमिक्रोन के केस निकलने के साथ ही लोगों को म्यूकर माइकोसिस यानी ब्लैक फंगस का भय सताने लगा है। कोरोना की दूसरी लहर के दौरान कई लोगों में ब्लैक फंगस के लक्षण देखने को मिले थे जिसके चलते काफी लोगों की जान चली गई थी। यह बीमारी शरीर में नाक, साइनस और फेफड़े पर हमला करता है।

ब्लैक फंगस ब्लाइंडनेस (अंधापन), ऑर्गेन डिसफंक्शन, ऊतकों को नुकसान पहुंचाने का कारण बनता है, जिसके चलते इससे मौत होने का भी खतरा बढ़ता है। इससे बचाव के लिए समय पर इलाज करवाना बहुत जरूरी होता है। कोरोना वायरस की तरह ही इस बीमारी का एक इतिहास है। यह बीमारी कई साल पहले भी फैल चुकी है और कोरोना वायरस की दूसरी लहर के बाद पुनः इस बीमारी ने अपना प्रभाव दिखाया है। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम ब्लैक फंगस से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण बातों पर बात करेंगें। साथ ही हम जानेंगे कि ब्लैक फंगस क्या है, इसके लक्षण, प्रभाव व इससे बचने के उपचार।

black fungus in hindi – PC-twitter

क्या है ब्लैक फंगस ? black fungus in hindi | black fungus kya hota hai

ब्लैक फंगस का मेडिकल नाम म्यूकॉरमायकोसिस है। यह एक दुर्लभ व खतरनाक फंगल संक्रमण है। ब्लैक फंगस इंफेक्शन वातावरण, मिट्टी जैसी जगहों में मौजूद म्यूकॉर्मिसेट्स नामक सूक्ष्मजीवों की चपेट में आने से होता है। इन सूक्ष्मजीवों के सांस द्वारा अंदर लेने या स्किन कॉन्टैक्ट में आने की आशंका होती है। यह संक्रमण अक्सर शरीर में साइनस, फेफड़े, त्वचा और दिमाग पर हमला करता है।
कोरोना वायरस से लड़ रहे या ठीक हो चुके मरीज़ों पर इसका प्रभाव तेजी से फैल रहा है। इस बीमारी के कुछ सामान्य लक्षण हैं जो वैसे तो पहचान में नहीं आते लेकिन असल में काफ़ी ख़तरनाक होते हैं।

ब्लैक फंगस के लक्षण और उपाय

ब्लैक फंगस के लक्षण-

– आंखों में सूजन, आंखें लाल होना, आंखें खोलने व बंद करने में परेशानी, डबल विजन, दिखाई कम या नहीं दिखना।

– नाक बंद होना व नाक से बदबूदार पानी / खून आना।

– चेहरे पर सूजन/सिर दर्द/सुन्नपन होना।

– दांतों में दर्द, चबाने में परेशानी, उल्टी व खांसने में खून आना।

– बुखार, खांसी, साँस लेने में तकलीफ़, खून की उल्टी होना आदि।

ब्लैक फंगस का उपचार Black fungus treatment

ब्लैक फंगस के मामलों में इलाज के लिए एंटी-फंगल दवा एम्फोटेरिसिन-बी का उपयोग किया जा रहा है। लेकिन इसे बिना डॉक्टरों की सलाह के ना लें। यदि आपको खुद में इस तरह के लक्षण दिखाई देने लगे तो आपको डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

कोविड की तरह ब्लैक फंगस भी मुंह और नाक से शरीर में प्रवेश करता है जिससे आपको तेज सिरदर्द हो सकता है। अगर आप कोविड से रिकवर हो चुके हों, सही से सोए हों और आपका खान-पान भी सही है, बावजूद इसके बिना वजह के सिरदर्द महसूस कर रहे हैं, तो तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें। हो सकता है कि आपके अंदर ब्लैक फंगस का वायरस एंट्री कर चुका हो।

ब्लैक फंगस का प्रभाव – Black fungus ka prabhav

ब्लैक फंगस कोरोना वायरस की चपेट में आए मरीज़ और कोरोना वायरस से रिकवर हो गए मरीजों पर अपना प्रभाव दिखा रहा है। एक शोध के मुताबिक ब्लैक फंगस एक ख़तरनाक बीमारी है। शोध में इस बात का ख़ुलासा किया गया है कि इस संक्रमण से मृत्यु के चांसेस लगभग 54% तक बढ़ जाते हैं।

इसके अलावा शुगर पेशेंट को भी ब्लैक फंगस होने के काफ़ी ज़्यादा चांसेस होते हैं। ब्लैक फंगस कोई साधारण इन्फैक्शन नहीं बल्कि एक ख़तरनाक बीमारी है जिसमें मृत्यु का ख़तरा रहता है। यह कैंसर जितनी ख़तरनाक बीमारी है।

ब्लैक फंगस से इस तरह करें बचाव Black fungus ke bachav kya hai

ब्लैक फंगस को रोकने के लिए हमें कुछ हद तक सावधानियां बरतनी चाहिए।

  • धूल-मिट्टी वाली जगह पर जानें से बचें व मास्क का प्रयोग करें।
  • गंदे व संक्रमित पानी के संपर्क में आने से बचें।
  • इम्यून सिस्टम को मजबूत करने वाली चीजें खाएं।
  • योगा व एक्सरसाइज करें।

White fungus symptoms in hindi व्हाइट फंगस के लक्षण

वाइट फंगस (White fungus) भी कोरोना जैसा ही होता हैं इसमें भी कोरोना वाले लक्षण पाए जाते है, इस संक्रमण का पता लगाने के लिए हमें सिटी स्कैन करवाना पड़ता है क्युकी ये फेफड़ो को सबसे ज्यादा प्रभावित करता है और अगर किडनी , त्वचा, प्राइवेट पार्ट्स, पेट और नाख़ून में भी कुछ बदलाव दिखे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ।

ये भी पढ़े – Polybion Syrup Uses In Hindi सेहत से जुड़ी इन अलग-अलग समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए Polybion Syrup का करें इस्तेमाल, जानें इसके फायदे

ये भी पढ़े – Maxirich Capsule uses in hindi | ऐसे काम करता है मैक्सीरिच कैप्सूल, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Zerodol SP uses in hindi | आखिर किस काम आती है जीरोडोल एसपी, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Nestor tablet uses in hindi यहां जाने आखिर किस बीमारी में उपयोग होती है नेस्टर टैबलेट ?

ये भी पढ़े – Hydrochloride Tablet Uses In Hindi | हाइड्रोक्लोराइड (hydrochloride) के मिश्रण से बनने वाली दवाईयां और कैसे करना चाहिए इनका उपयोग, यहां जाने ?

ये भी पढ़े – Abbott Tablet Uses In Hindi एबट टैबलेट के फायदे और नुकसान और कैसे करें इसका इस्तेमाल ?

ये भी पढ़े – Neeri Syrup Uses In Hindi, जाने इसका उपयोग, लाभ, साइड इफेक्ट्स और कीमत!

ये भी पढ़े – Platelet badhane ke upay in hindi प्लेटलेट्स की संख्या हो गई है कम तो इन दवाओं का कर सकते हैं सेवन, जानें इसके लक्षण और किन चीजों का करें सेवन

ये भी पढ़े – ब्लड प्रेशर कम करने का मंत्र, इन चीजों का करें सेवन और इनसे से बनाए दूरी!

ये भी पढ़े – शरीर में हार्मोन इम्बैलेंस के कारण हो सकती हैं ये समस्याएं, डॉक्टर से जरूर करें संपर्क

ये भी पढ़े – weakness dur karne ke upay शरीर की कमजोरी दूर करने के उपाय क्या है व इसे दूर करने के लिए क्या खाना चाहिए

मोहित नागर
मोहित नागर
मोहित नागर एक कंटेंट राइटर है जो देश- विदेश, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट, हेल्थ और वास्तु से जुड़ी खबरों पर लिखना पसंद करते हैं। उन्होंने डॉ० भीमराव अम्बेडकर कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी) से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। मोहित को लगभग 3 वर्ष का समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम करने का अनुभव है।

Related Articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Latest Articles