fbpx

Heart attack ke upay in hindi आइए जानते है हार्ट अटैक के कारण, बचाव और उपाय ?

Must read

शुभम सिंह
शुभम सिंह
शुभम सिंह शेखावत हिंदी कंटेंट राइटर है। वह कई टॉपिक्स पर आर्टिकल लिखना पसंद करते है जैसे कि हेल्थ, एंटरटेनमेंट, वास्तु, एस्ट्रोलॉजी एवं राजनीति। उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से अपनी पत्रकारिता की पढ़ाई पूरी की है। वह कई समाचार वेब पोर्टल एवं पब्लिक रिलेशन संस्थाओं के साथ काम कर चुके है।

Table of Contents

हार्ट अटैक से बचने के उपाय बताएं | Heart attack ke upay in hindi | हार्ट अटैक से बचने के आयुर्वेदिक उपाय | महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण

एक समय हुआ करता था जब किसी उम्र में आकर लोगों को हार्ट अटैक की समस्या का सामना करना पड़ता था लेकिन आज के समय में हमारा खान-पान इतना खराब हो गया है कि अब हार्ट अटैक कोई उम्र नहीं देखता और जवान लोग भी इसके शिकार हो जाते है।
अब हार्ट अटैक के लिए हम केवल हमारे खान-पान को ही दोषी नहीं ठहरा सकते बल्कि हमारी जागरूकता भी इसका सबसे बड़ा कारण है क्योंकि हार्ट अटैक एक दिन में नहीं आता बल्कि अपने आने से पहले कई संकेत देता है।

जिसे हम जानकारी के अभाव में नजरअंदाज कर देते है और नतीजा यह निकलता है कि हम अपनी जान से हाथ धो बैठते है। इसी को देखते हुए आज हम आपके लिए हार्ट अटैक से जुड़ी सभी जानकारी लेकर आए है।

आज हम आपको ना सिर्फ हार्ट अटैक का कारण बताने वाले है बल्कि आज हम आपको इसके लक्षण और बचने के उपायों की विस्तार से जानकारी भी देंगे। तो आइए सबसे पहले इसपर नजर डाल लेते है कि आखिर हार्ट अटैक होता क्या है और कैसे आता है।

Advertisement

जैसा कि आप जान चुके होंगे कि आज हम हार्ट अटैक को लेकर बात करने वाले है। तो आगे की जानकारी देने से पहले आइए यह जान लेते है कि आखिर हार्ट अटैक होता क्या है। तो मेडिकल की भाषा में हार्ट अटैक को मायोकार्डियल इंफ्रेक्शन कहा जाता है।

जिसमें ‘मायो’ शब्द का अर्थ होता है मांसपेशी और ‘कार्डियल’ हृदय को दर्शाता है। जबकि ‘इंफ्रेक्शन’ अपर्याप्त रक्त आपूर्ति के कारण टिश्यू के नष्ट होने को संदर्भित करता है। इसका मतलब है कि हार्ट की मांसपेशियों के टिश्यू का नष्ट होना और यह स्थिति हमारे हार्ट के लिए बहुत ही ज्यादा खतरनाक होती है।

आखिर क्यों होता है हार्ट अटैक ?

अगर बात करें हार्ट अटैक के कारणों की तो यह स्थिति तब उत्पन्न होती है जब हमारे हार्ट को खून पहुंचाने वाली धमनियों में कोई रूकावट आ जाए और यह रूकावट आने का कारण होता है खून के थक्के जमना और यह बनते है मोटापे के कारण। इसीलिए अगर आपका मोटापा बढ़ रहा हो तो यह भी आपको हार्ट अटैक के खतरे की तरफ धकेल सकता है।

हार्ट अटैक का दर्द कहा होता हैँ ?

अब बात कर लेते है सबसे ज्यादा पूछे जाने वाले सवाल यानी कि आखिर हार्ट अटैक का दर्द कहा होता है। क्योंकि कई बार गैस का दर्द भी सीने में होने लगता है जिसे लोग हार्ट अटैक मान लेते है। इसीलिए आपको अगर गैस और हार्ट अटैक के दर्द के बीच अंतर जानना हो तो आपको कुछ चीजों पर यहां ध्यान देने की जरूरत है।

तो अगर आपको छाती के बीच में या आपकी बाहों, कमर के ऊपरी हिस्से में, जबड़े, गर्दन या पेट के ऊपरी हिस्से में अलग तरीके का दर्द महसूस हो जो कि 5 मिनट से भी ज्यादा समय तक आपके शरीर में बरकरार हो और इसके अलावा सांस लेने में तकलीफ, ठंडा पसीना, जी घबराना, थकान या चक्कर आना जैसे लक्षण दिखाई दे तो यह पूरी तरह से हार्ट अटैक के ही लक्षण होते है।

ऐसे में देरी ना करें और मरीज को डॉक्टर के पास लेकर जाए। इस बीच आप मरीज को कहें कि वह जोर-जोर से खांसे और खांसी का प्रभाव इतना तेज हो कि खांसने पर थूक बाहर आए। ऐसा करने से खून का प्रभाव नोर्मल होने लगेगा और आपको मरीज को बचाने का टाइम मिल जाएगा।

हार्ट अटैक आने से पहले के संकेत क्या होते है ?

कई लोगों का मानना यह होता है कि हार्ट अटैक अचानक से उत्पन्न होने वाली समस्या होती है। लेकिन सच तो यह है कि हार्ट अटैक के आने से पहले ही हमें इसके कई लक्षण दिखने लग जाते है लेकिन जानकारी ना होने की वजह से हम इन्हें नजरअंदाज कर देते है।

तो आइए आपको इसके शुरूआती लक्षणों से रूबरू करवाते है। तो ज्यादातर हार्ट अटैक से पहले सीने में दर्द और बेचैनी की समस्या देखने को मिलती है। इस दौरान लोगों को सीने के बीचो-बीच या फिर उल्टे हाथ की तरफ बहुत अधिक भारीपन, सिकुड़न जैसा अहसास होता है और कई बार फुलावट और दर्द का अनुभव होता है।

इसके अलावा हार्ट अटैक के आने से कुछ समय पहले से लोगों को कमजोरी लगना और चक्कर आना, ठंडा पसीना आने जैसे लक्षण देखने को मिल जाते है। जिन्हें आपको कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए।

हार्ट अटैक आने की उम्र क्या होती है ?

वैसे तो पहले के समय में लोगों को हार्ट अटैक की समस्या 60 वर्ष के बाद होती थी लेकिन अब इसकी कोई उम्र निर्धारित नहीं रही। क्योंकि 25 साल की उम्र से लेकर आगे तक की किसी भी उम्र में लोगों को हार्ट अटैक आ जाता है।

लेकिन फिर भी अगर एक आयु सीमा की बात की जाए तो हार्ट अटैक की आयु पुरुष के लिए 45 वर्ष से ज्यादा, और महिलाओं के लिए 55 वर्ष से अधिक बताई जाती है। लेकिन यह गलत खान-पान के चलते पहले भी आपको फेस करने को मिल सकती है।

इसीलिए आपको अनियमित आहार, जंक फूड खाना या अधिक मसालेदार भोजन करने से बचना चाहिए। क्योंकि यही दिल के दौरे का कारण बनता है।

महिलाओं में हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है ?

कई लोग मानते है कि महिला और पुरूषों दोनों में हार्ट अटैक के लक्षण समान ही होते है लेकिन ऐसा नहीं है। जिस प्रकार से महिला और पुरूष दोनों की शारीरिक बनावट अलग होती है उसी प्रकार से दोनों के लक्षण भी अलग होते है। तो अगर महिलाओं को नीचे बताए गए कोई भी लक्षण दिखाई दें तो वह इसे नजरअंदाज कतई ना करें।

महिलाओं में दिखने वाले हार्ट अटैक के लक्षण ?

• पीठ, गर्दन, जबड़े और बांहों में दर्द होना।
• सांस लेने में तकलीफ और चक्कर आना।
• तेज पेट दर्द या पेट से जुड़ी बीमारी।
• ठंडा पसीना आना।
• आराम के बावजूद थकान महसूस करना।
• छाती में दबाव और दर्द महसूस होना।

हार्ट अटैक से बचने के उपाय बताएं ? Heart attack ke upay in hindi

अगर आप हार्ट अटैक से बचना चाहते है तो आपको सबसे पहले तो अपनी जीवन शैली में सकारात्मक बदलाव लाना चाहिए। इसके लिए आप कुछ चीजों का पालन कर सकते है जो कि इस प्रकार से है।

• सेहतमंद आहार लें।
• स्वस्थ वजन बनाए रखें।
• धूम्रपान ना करें।
• शराब का सेवन सीमित या बिल्कुल न करें।
• मधुमेह और रक्तचाप को नियंत्रित रखें।
• नियमित रूप से व्यायाम करें।
• तनाव से बचें
• समय पर अपनी दवाओं का सेवन करें।

हार्ट अटैक से बचने के आयुर्वेदिक उपाय ?

अगर आपको हार्ट अटैक से बचना हो तो आपको रोजाना योगाभ्यास और प्राणायाम करने चाहिए क्योंकि इन्हें प्रतिदिन करने से हार्ट अटैक के खतरे को 80 से 90% तक कम किया जा सकता है। इसके लिए आप शशांक आसन, धनुरासन, ताड़ासन, कटिचक्रासन, वज्रासन, सूर्य नमस्कार जैसे आसनों को अपना सकते है। इसके अलावा आप अनुलोम विलोम, चंद्र भेदन, नाड़ी शोधन, भ्रामरी, शीत प्राणायाम, उंगलियों की हृदय मुद्रा को भी अपना सकते है।
हार्ट अटैक को लेकर अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल ?

हार्ट अटैक के फायदे ? Heart attach ke fayde

आपको सुनकर जरूर अजीब सा लग रहा होगा कि क्या हार्ट अटैक के कोई फायदे भी हो सकते है। तो आइए इसे भी जान लेते है क्योंकि जब हम अपने सवालों की खोज कर रहे थे तो हमें वहीं यह अजीब सा सवाल मिला।

अब भले ही सवाल अजीब था लेकिन इसका जवाब आप तक पहुंचाना हमारे लिए जरूरी था। इसलिए हमने इसे भी अपनी लिस्ट में जोड़ लिया। तो जब विशेषज्ञों से इसका जवाब पूछा गया कि क्या इतनी तकलीफ देने वाली समस्या का कोई फायदा हो सकता है ?

तो उनका जवाब था कि जैसा कि हम जानते है कि हार्ट अटैक एक गंभीर समस्या है और इससे बचने के लिए समय पर ही सही कदम उठाए जाने बहुत जरूरी होते है। इसलिए हार्ट अटैक का कोई फायदा नहीं हो सकता।

हार्ट अटैक का दर्द किस साइड होता है ? Heart attack side effects

हार्ट अटैक का ज्यादातर दर्द सीने से शुरू होता है और आगे चलकर सीने के बीच होता है। इसके अलावा हार्ट अटैक के दौरान उल्टे हाथ की तरफ बहुत अधिक भारीपन, कुछ सिकुड़न जैसा अहसास या फुलावट और दर्द का अनुभव होता है।

हार्ट अटैक के लक्षण क्या होते है ?

हार्ट अटैक का पहला और आखिर लक्षण यह होता है कि इसमें बहुत ही असहनीय सीने का दर्द होता है।

हार्ट अटैक का घरेलु उपचार क्या होता है ?

अगर किसी को हार्ट अटैक आए तो उसे पानी में लाल मिर्च घोलकर पीलाने से आराम मिल सकता है।

सीने के दाहिने तरफ दर्द क्यों होता है?

अगर दर्द दाईं ओर की पसली के नीचे होता है तो यह पित्त की थेली में पथरी होने लक्षण हो सकता है।

हार्ट अटैक और गैस के दर्द में फर्क कैसे करें ?

कई बार हमारे सीने में अचानक से दर्द होने लग जाता है जो अपने आप चला भी जाता है लेकिन कई बार लोग उसे हार्ट अटैक का दर्द मान लेते है और घबरा जाते है। लेकिन यह दर्द गैस के फंसने से भी हो सकता है।

घर पर कैसे करें अपने हार्ट के स्वस्थ होने की जांच ?

यूरोपियन सोसायटी ऑफ कार्डियोलॉजी ने अपने एक शोध में कहा कि जो व्यक्ति मात्र 45 सैकेंड में 60 सीढ़ी चढ़ सकता है। उनमें हार्ट स्वस्थ होता है और ऐसे लोगों को हार्ट अटैक का खतरा बहुत कम होता है।

ये भी पढ़े – अगर आप भी करते है यह गलतियां तो इन्हें आज ही सुधारे, कहीं आप भी ना हो जाए हार्ट अटैक के शिकार ?

ये भी पढ़े – बढ़ रहें हैं युवाओं में हार्ट अटैक के मामले, इस तरह के लक्षण दिखें तो हो जाए सावधान!

ये भी पढ़े – शोध – ऐसे करें अखरोट का सेवन, कभी नहीं होगा हार्ट अटैक !

ये भी पढ़े – ब्लड प्रेशर कम करने का मंत्र, इन चीजों का करें सेवन और इनसे से बनाए दूरी!

ये भी पढ़े – Black Fungus In Hindi क्या है ब्लैक फंगस, लक्षण इससे बचाव के तरीके और कुछ सावधानियां!

ये भी पढ़े – Polybion Syrup Uses In Hindi सेहत से जुड़ी इन अलग-अलग समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए Polybion Syrup का करें इस्तेमाल, जानें इसके फायदे

ये भी पढ़े – Maxirich Capsule uses in hindi | ऐसे काम करता है मैक्सीरिच कैप्सूल, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Zerodol SP uses in hindi | आखिर किस काम आती है जीरोडोल एसपी, जानिए उपयोग, फायदे और नुकसान ?

ये भी पढ़े – Nestor tablet uses in hindi यहां जाने आखिर किस बीमारी में उपयोग होती है नेस्टर टैबलेट ?

ये भी पढ़े – Hydrochloride Tablet Uses In Hindi | हाइड्रोक्लोराइड (hydrochloride) के मिश्रण से बनने वाली दवाईयां और कैसे करना चाहिए इनका उपयोग, यहां जाने ?

ये भी पढ़े – Abbott Tablet Uses In Hindi एबट टैबलेट के फायदे और नुकसान और कैसे करें इसका इस्तेमाल ?

ये भी पढ़े – Neeri Syrup Uses In Hindi, जाने इसका उपयोग, लाभ, साइड इफेक्ट्स और कीमत!

ये भी पढ़े – Platelet badhane ke upay in hindi प्लेटलेट्स की संख्या हो गई है कम तो इन दवाओं का कर सकते हैं सेवन, जानें इसके लक्षण और किन चीजों का करें सेवन

ये भी पढ़े – ब्लड प्रेशर कम करने का मंत्र, इन चीजों का करें सेवन और इनसे से बनाए दूरी!

ये भी पढ़े – शरीर में हार्मोन इम्बैलेंस के कारण हो सकती हैं ये समस्याएं, डॉक्टर से जरूर करें संपर्क

ये भी पढ़े – weakness dur karne ke upay शरीर की कमजोरी दूर करने के उपाय क्या है व इसे दूर करने के लिए क्या खाना चाहिए

More articles

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisement -

Latest article